आजकल के आधुनिक युग में लोगों भले ही कई क्षेत्र में बेहद प्रगति की है पर इस प्रगति के चक्कर में लोगों ने अपने स्वास्थ्य को नजरअंदाज किया हैं। आपको समाज में ऐसे कई प्रतिष्ठित लोग मिलेंगे जो बड़े वकील, व्यापारी अफसर या शायद डॉक्टर ही है और जिन्होंने अपने क्षेत्र में बेहद प्रगति है पर आप उमके स्वास्थ्य के तरफ गौर करेंगे तो वो वह मधुमेह, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा और एसिडिटी जैसे किसी बीमारी के शिकार होंगे।

नाम और पैसे कमाने के चककर में हम अपने स्वास्थ्य से खिलवाड़ करते है और इसका परिणाम यह होता है की हम उस उच्च परिस्तिथि का अपने ख़राब स्वास्थ्य के कारण पर्याप्त उपभोग भी नहीं कर पाते हैं। आज हम ऐसे ही एक पीड़ादायक स्वास्थ्य समस्या की चर्चा करने जा रहे है जो कमजोर पाचन शक्ति और बिगड़ी जीवनशैली के कारण होती हैं।

गुदा भाग में कब्ज और कड़क मल के कारण चिर / Crack पड़ जाती है और बेहद पीड़ा होती है। इस समस्या को फिशर / Fissure या गुदचिर कहा जाता हैं। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति न तो ठीक से बैठ पाता है और नाहि आहार ले पाता हैं। फिशर का आधुनिक और आयुर्वेदिक उपचार, घरेलु नुस्खे और इससे बचने के उपाय की जानकारी निचे दी गयी हैं :

fissure treatment ayurvedic home remedies in Hindi language
फिशर के कारण और लक्षण की जानकारी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे - Causes and symptoms of Fissure in Hindi.

फिशर का उपचार कैसे किया जाता हैं ?
Treatment and Ayurveda Home Remedies of Fissure in Hindi

फिशर का उपचार, फिशर की तीव्रता पर निर्भर करता हैं। शुरूआती दौर में ही इसे औषधि और गुद भाग में लगाये जानेवाले मलम / क्रीम देकर ठीक किया जा सकता हैं। अगर पीड़ा अधिक है और रक्तस्त्राव भी अधिक हो रहा है तो शल्य कर्म / Surgery कर इसे ठीक किया जाता हैं। 
  • कब्ज / Constipation : बवासीर हो या फिशर, सबसे पहले रोगी की कब्ज की शिकायत को दूर करना बेहद जरुरी होता हैं। कब्ज को ठीक करने के लिए गोली, सिरप, फाइबर युक्त दवा, मल को मुलायम करने वाली दवा दे सकते हैं। अगर आपको कब्ज की समस्या है तो कब्ज से राहत पाने की सम्पूर्ण जानकारी पढने के लिए यहाँ क्लिक करे - कब्ज से राहत पाने के उपाय और घरेलु नुस्खे ! 
  • दवा / Medicine : कब्ज को ठीक करने के लिए दी जानेवाली दवा के साथ डॉक्टर आपको अन्य दवा देते है। जैसे की :
  1. दर्द नाशक दवा - Analgesic, Anesthetic
  2. सुजन कम करने वाली दवा - Anti-inflammatory
  3. एसिडिटी की दवा - Antacids 
  4. इन्फेक्शन रोकने के लिए दवा - Antibiotics
  5. रक्तस्त्राव रोकने की दवा - Bleeding Control drugs
  6. इंजेक्शन - Botox Injection 
  • शल्य कर्म / Surgery : औषधि उपचार से सफलता न मिलने पर ऑपरेशन कर फिशर का उपचार किया जाता हैं। 
  1. Anal Sphincterotomy - इसमें गुद भाग के संकोचक पेशी को हल्का सा काटकर ढीला किया जाता है जिससे फिशर जल्दी से ठीक होने में सहायता होती हैं। 
  2. Fissurectomy - अगर फिशर की जगह अधिक सख्त है और इसे ठीक होने में मुश्किल लगती है तो इसे ऑपरेशन कर काट दिया जाता है। नयी जख्म को दवा और ड्रेसिंग कर ठीक किया जाता हैं। 
  • आयुर्वेदिक उपचार / Ayurveda : बवासीर और फिशर जैसी समस्या का आयुर्वेदिक औषधि का उपयोग कर सफल उपचार किया जा सकता हैं। 
  1. औषधि / Medicine : त्रिफला चूर्ण, हरीतकी चूर्ण, आरोग्यवर्धनी वटी, अभयारिष्ठ, चित्रकादी वटी, पंचकोलासव, हिन्गावाष्ठक चूर्ण जैसी आयुर्वेदिक औषधि देकर रोगी के पाचन संबंधी विकार को दूर किया जाता है और फिशर की समस्या को ठीक किया जाता हैं। गुद भाग में लगाने हेतु जात्यादी तेल और कासिसादी तेल का उपयोग किया जाता हैं। 
  2. क्षारसुत्र : अगर रोगी को सेंटिनल पाइल्स की समस्या है तो औषधि युक्त धागा / क्षारसूत्र उसे बांधकर 5 से 6 दिन तक रखा जाता हैं। 5 से 6 दिन बाद यह सेंटिनल पाइल्स अपने आप काटकर गिर जाता हैं। इसमें कोई दर्द या ब्लीडिंग नहीं होती हैं। क्षारसूत्र चिकित्सा से फिशर में 2 हफ्ते में ठीक हो जाता हैं। 
  3. अग्निकर्म : इस विधि में औषधि संस्कार किये हुए विशेस अग्नि कर्म यंत्र से सेंटिनल पाइल्स या फिशर को अग्नि / heat से काट दिया जाता हैं। इसमें रोगी को हल्का दर्द होता हैं।   
  • योग / Yoga : बवासीर और फिशर से जुडी समस्या से राहत लाने के लिए आप योग का सहारा भी ले सकते हैं। योग और प्राणायाम का नियमित अभ्यास करने से पाचन शक्ति अच्छी रहती हैं, कब्ज नहीं होती, आपकी रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ती है और जखम के भरने की गति बढ़ती हैं। फिशर में आप निचे दिए हुए योग कर सकते हैं। योग की सम्पूर्ण विधि पढ़ने के लिए उस योग के नाम के ऊपर केवल क्लिक करे :
  1. अनुलोम-विलोम 
  2. कपालभाति 
  3. वज्रासन 
  4. धनुरासन 
  5. पवनमुक्तासन 
  6. त्रिकोणासन 
  • घरेलु नुस्खे / Home Remedies : फिशर से निजात पाने के लिए आप निचे दिए हुए घरेलु नुस्खे भी अपना सकते हैं। ऐसे तो यह सभी नुस्खे सुरक्षित है पर फिर भी एहतियात के तौर पर इन्हे अपनाने के लिए अपने डॉक्टर की राय अवश्य लेना चाहिए। 
  1. एलोवेरा का गुदा / Gel को फिशर पर साफ कर दिन में दो बार लगाने से जल्द राहत मिलती हैं। 
  2. जैतून का तेल में शहद मिलाकर हल्का गर्म कर गुदा भाग में लगाने से दर्द कम होता है और घाव सूखने में मदद मिलती हैं। 
  3. नारियल तेल को दिन में 2 बार गुदा में लगाने से मलत्याग आसानी से होता है और फिशर ठीक होने में आसानी होती हैं। 
  4. अलसी में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है। इसे अपने आहार में शामिल करे। इसका 1 चमच्च पाउडर रोजाना 1 ग्लास गुनगुने पानी के साथ लेने से काफी लाभ मिलता हैं। 
  5. किसी कड़क जगह पर बैठने की जगह मुलायम या तकिया रखकर उस पर बैठे। लम्बे समय तक बैठा काम काम नहीं करना चाहिए।   
  6. हफ्ते में कम से कम 2 दिन सुरन की सब्जी अवश्य खाना चाहिए। इससे फिशर ठीक होने में बेहद मदद होती हैं। 
  7. हफ्ते में कम से कम दो बार मख्खन खाने से भी खुनी बवासीर और फिशर में राहत मिलती हैं। 

फिशर से बचने के लिए क्या करे ?
How To Prevent Fissure in Hindi 

फिशर से बचने के लिए निचे दिए हुए एहतियात का पालन करना चाहिए :
  1. आहार / Diet : फिशर से बचने के लिए आपको अपने आहार पर विशेष ध्यान देना बेहद आवश्यक हैं। आपको फ़ास्ट फ़ूड से दुरी बनकर रखना चाहिए। आहार में हरी सब्जियां, फल और फाइबर युक्त साबुत अनाज का अधिक सेवन करना चाहिए। भोजन के साथ सलाद अवश्य लेना चाहिए। भोजन में अधिक तीखा, तलाहुआ और मसालेदार पदार्थो का समावेश न करे।  
  2. पानी / Water : पानी कम पिने से मल काफी कड़क हो जाता है और गुदा भाग ड्राई रहता है जिस कारण गुदा भाग में चिर पड़ने की संभावना बढ़ जाती हैं। आपको मौसम के हिसाब से पर्याप्त मात्रा में पानी पिते रहना चाहिए। एक दिनभर में कम से कम 8 ग्लास या 2.5 से 3 लीटर पानी अवश्य पीना चाहिए। 
  3. व्यायाम / Exercise : आपको हफ्ते में कम से कम 5 दिन रोजाना 30 मिनिट तक अपने क्षमता के अनुसार व्यायाम अवश्य करना चाहिए। लगातार लम्बे समय तक बैठे रहने से बवासीर और फिशर होने का खतरा बढ़ जाता हैं। आपको दिन में हर एक घंटे बैठे रहने के बाद कम से कम 5 से 10 मिनट खड़ा होकर टहलना चाहिए और एक्टिव रहना चाहिए। इससे न तो कब्ज होंगी और ह्रदय के स्वास्थ्य के लिए भी यह उपयोगी हैं। 
  4. नशा / Habit : अगर आपको चाय / कॉफ़ी / शराब / तम्बाखू / धूम्रपान / गुठखा या मावा का नशा है तो इसे जल्द बंद करे। यह आपके पाचन शक्ति को कमजोर करता है और कब्ज को बढ़ावा देता हैं।  
  5. सिकाई / Sitz Bath : अगर आपको कब्ज रहती है और आपको लगता है की आपको बवासीर या फिशर की समस्या निर्माण हो रही है तो आपने दिन में 2 से 3 बार गुद भाग की सिकाई / Sitz Bath करना चाहिए। एक टब में हल्का गर्म पानी भरकर उसमे दिन में 2 से 3 बार 10 से 15 मिनिट बैठकर गुद भाग को सकने से लाभ मिलता हैं। इससे गुद भाग को आराम मिलता हैं, गुद भाग में रक्त प्रवाह अच्छे से होता हैं और बवासीर / फिशर की समस्या निर्माण नहीं होती हैं।  
इस तरह एहतियात बरतकर आप फिशर जैसे कष्टदायी रोग से खुद को बचा सकते हैं। याद रहे - पहला सुख निरोगिकाया ! अगर आपका शरीर और मन स्वस्थ है तो ही आप एक खुशहाल स्वस्थ जिंदगी जी सकते हैं !
अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook या Tweeter account पर share करे !
#Fissure #Ayurveda #Treatment #Remedies #upchar #Nuskhe #Hindi #फिशर #उपचार #आयुर्वेदा #घरेलु #नुस्खे #हिंदी 
loading...
Labels: ,

Post a Comment

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.