Obesity या मोटापा यह आज के आधुनिक समाज के लिए सबसे गंभीर समस्या बन चुकी है। मोटापा अपने साथ कई अन्य भयावह बीमारियो को लेकर आता है। लोग मोटापा दूर करने के लिए कई तरह की चीजो का इस्तेमाल करते नजर आते है। अकसर देखा जाता है की हजारो रुपये खर्च कर भी लोग अपना मोटापा कम नहीं कर पाते है और बजाए weight loss करने के हानिकारक दवाओ के कारण उनके Liver पर विपरीत परिणाम होता है।

स्वस्थ और निरोगी रहने के लिए योग और प्राणायाम से अच्छा कोई विकल्प नहीं है। योग और प्राणायाम की मदद से आप अत्यंत कम खर्च और समय में weight loss कर सुखी जीवन व्यतीत कर सकते है। Weight Loss करने के लिए संतुलित आहार-विहार के साथ अगर योग और प्राणायम को जोड़ा जाए तो weight loss आसानी से किया जा सकता है।

Weight loss करने के लिए कपालभाती प्राणायम का उपयोग किया जाता है। प्राणायम की मदद से आसानी से Weight loss किया जाए सकता है। कपालभाती संबंधी अधिक जानकारी निचे दी गयी है :

Kapalbhati-and-Weight-Loss-In-Hindi

कपालभाती 

परिचय / Introduction 

'कपालभाती' यह एक संस्कृत शब्द है। 'कपाल' का मतलब होता है माथा / Forehead और 'भाती' का मतलब होता है प्रकाश / Light। रोज नियमित कपालभाती करने से व्यक्ति का माथा / चेहरे पर कांती या चमक आती है। चेहरे पर चमक होना स्वस्थ और निरोगी व्यक्ति की पहचान होती है। कपालभाती यह एक प्राणायाम का चमत्कारी प्रकार है जिसके कई सारे फायदे है।

विधि / Procedure
  1. एक समान, सपाट और स्वच्छ जगह जहा पर स्वस्छ हवा हो वहा पर कपड़ा बिछाकर बैठ जाए।
  2. आप सिद्धासन, पदमासन या वज्रासन में बैठ सकते है। आप चाहे तो आपको जो आसन आसान लगे या आप हमेशा जैसे निचे जमीन पर बैठते है उस तरह बैठ जाए। 
  3. बैठने के बाद अपने पेट को ढीला छोड़ दे। 
  4. अब अपने नाक से सांस को बाहर छोड़ने की क्रिया करे। सांस को बाहर छोड़ते समय पेट को अंदर की ओर धक्का दे। 
  5. श्वास अंदर लेने की क्रिया करने की जरुरत नहीं है। इस क्रिया में श्वास अपने आप अंदर लिया जाता है। 
  6. लगातार जितने समय तक आप आसानी से कर सकते है तब तक नाक से श्वास बाहर छोड़ने और पेट को अंदर धक्का देने की क्रिया को करते रहे। 
  7. शुरुआत में 10 बार और धीरे धीरे बढ़ाते हुए एक बार में 60 बार तक यह क्रिया करे। 
  8. आप चाहे तो बीच में कुछ समय का आराम लेकर भी इस क्रिया को कर सकते है। 

सावधानिया / Precautions 
  1. कपालभाती सुबह के समय खाली पेट, पेट साफ़ होने के बाद ही करे। 
  2. अगर खाना खाने के बाद कपालभाती करना है तो खाने के 5 घंटे बाद इसे करे। 
  3. कपालभाती करने के बाद 30 मिनिट तक कुछ न खाए। आप चाहे तो थोड़ा पानी ले सकते है।   
  4. शुरुआत में कपालभाती किसी योगा के जानकार के देखरेख में ही करे। 
  5. गर्भवती महिला, Gastric ulcer, Epilepsy, Hernia के रोगी इस क्रिया को न करे। 
  6. Hypertension / उच्चरक्तचाप और ह्रदय रोगी अपने डॉक्टर की सलाह लेकर हे इस क्रिया को करे। 
  7. ऐसे तो कपालभाती क्रिया के कोई दुष्परिणाम / side-effects नहीं है फिर भी कपालभाती करते वक्त चक्कर आना या जी मचलाना जैसी कोई परेशानी होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करे। 
लाभ / Benefits 
  1. वजन कम / weight loss होता है। भारत में ऐसे कई लोग है जिन्होंने कपालभाती से अपना 30 से 40 किलो वजन काम किया है। 
  2. पेट की बढ़ी हुई अतिरिक्त चर्बी कम होने में सहायक है। यह आपके कमर के आकार को फिर से सामान्य आकार में लाने में मदद करता है। 
  3. चेहरे की झुर्रिया और आँखों के निचे का कालापन दूर कर चेहरे की चमक फिर से लौटाने में मदद करता है। 
  4. गैस, कब्ज और अम्लपित्त / Acidity की समस्या को दूर भगाता है। 
  5. शरीर और मन के सारे नकारात्मक तत्व और विचारो को मिटा देता है।   
  6. शरीर को detox करता है। 
  7. स्मरणशक्ति को बढ़ाता है। 
  8. कफ विकार नष्ट होते है और श्वासनली की सफाई अच्छे से होती है। 
  9. इस क्रिया से रक्त धमनी की कार्यक्षमता बढाती है और बढ़ा हुआ cholesterol को काम करने में मदद होती है। 
  10. कपालभाती करने वक्त पसीना अधिक आता है जिससे शरीर स्वच्छ होता है। 

कपालभाती के weight loss के अलावा भी कई अन्य महत्वपूर्ण फायदे से अब तक आप परिचित हो चुके है। आज से ही weight loss करने के लिए संतुलित आहार-विहार और व्यायाम के साथ इसे अपने दिनचर्या का हिस्सा बनाकर स्वस्थ और निरोगी जीवन जीने की तरफ अपना कदम बढ़ाए। 

जिन लोगो का वजन सामान्य या controlled है वह भी कपालभाती के अन्य लाभ के लिए इस क्रिया को कर सकते है।  


Image courtesy : holohololand / FreeDigitalPhotos.net

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook या Tweeter account पर share करे !

आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है !
loading...

Post a Comment

  1. योग से सम्बंधित बहुत ही सुन्दर लेख लिखा आपने. Good Work

    ReplyDelete
  2. कपालभाती के बारे मैं आपने बहुत सटीक जानकारी दी आपका बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. केवल कपाल भाति से वजन घटने वाला नहीं है. पूरे योगासन करें, प्राणायाम करें और खाने का भी ध्यान रखें तभी कुछ वजन घटेगा.
    दूसरी बात है की चित्र में दिखाये गया पोज़ में टांगो की पोजीशन गलत है. गुस्ताखी माफ़

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा हर्षवर्धन जी आपने ! वजन कम करने के लिए आहार, विहार, व्यायाम और योग इन सभी का ख्याल रखना पड़ता हैं l जैसे की लेख में कहा गया है, कपालभाती करने के लिए हम सुखासन में बैठकर भी कपालभाती कर सकते हैं l ब्लॉग पर भेट देने हेतु और अपनी प्रतिक्रिया देने हेतु धन्यवाद !

      Delete
  4. Kapalbhati bahot hi uttam kriya hai jiske dwara sharir ko swasth rakha jaa sakta hai.

    ReplyDelete
  5. कपालभाति से वजन कम हो सक्ता हे ।
    बहोत ही उपयोगी जानकारी दी आपने।

    ReplyDelete
  6. आप ने पेट को अंदर धक्का देने का लिखा हे मैं इस इस से सहमत नहीं हु क्यों की पेट अंदर जाने की क्रिया अपने आप होती हे।
    बाकी आप के द्वारा दी गई सभी जानकारी सही और उपयोगी हे इस के लिए आप को साधुवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. महेन्द्रजी,
      प्रतिक्रिया देने हेतु धन्यवाद. कपालभाती में पेट अन्दर जाने की क्रिया अपने आप होती है पर पाठकों को सरल शब्दों में समझाने के लिए ऐसा वर्णन किया गया हैं. पेट अपने आप अन्दर जाये या आप अन्दर खिचे कोई समस्या नहीं है.

      Delete
  7. Hi sir, kpalbhati kitane time tak karni chahiye, 10 minit , 30 minit, muze mere pet ki charbi kam karni he, so please guide me

    ReplyDelete
    Replies
    1. नौनिध जी,
      कपालभाती का समय अपनी क्षमतानुसार अभ्यास के साथ बढ़ाना हैं. शुरुआत चाहे 1 मिनिट से करे. धीरे-धीरे अभ्यास के साथ इसका समय बढ़ाये.

      Delete
  8. KAPAAL BHARTI KI JANKAARI KE LIYA DHANYABAAD JI.
    KAYA AAP BATA SAKTE HAI KI SAANS ANDAR BAHAR KARTE SAMEY KITNA FORCE HONA CHAHIYA.YA KITNI ZOR SE KARNA CHAHIYA,

    ReplyDelete
    Replies
    1. कपालभाती करते समय सांस अन्दर या बाहर करते समय कोई फ़ोर्स नहीं लगाना है. यह स्वाभाविक रूप से होना चाहिए.

      Delete
  9. Thanks for such a important information about Kapaal Bhati

    ReplyDelete
  10. Sir low Bp wale kon kon se paranyam kre v konsa na kre.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Low ब्लड प्रेशर के लिए आप यह पढ़े - http://www.nirogikaya.com/2016/03/low-bp-blood-pressure-treatment-hindi.html

      Delete
  11. Dr. Paritosh jee,

    Mere brother ka 26 years pehle kidney transplant ka operation huwa tha. Abhi unko Hepatitis B detect huwa hai kya wo kapalbhati pranayam kar sakte hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. नितीशजी,
      आपके भाईसाहब कपालभाती प्राणायाम कर सकते हैं.

      Delete
  12. Hello sir, main ASHISH DWIVEDI , mughe nightfall 3-4 year se ho raha hai. Kapalbhati se theek ho sakta hai.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Kapalbhati se thoda labh hoga par apko Ayurvedic dr ko dikhakar medicine lene se adhik labh ho sakta hain.

      Delete

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.