कई बार रोगी व्यक्ति के शरीर के आतंरिक हिस्सों जैसे के हड्डीयां (Bones), फेफड़े (Lungs), पेट आदि में झाँकने के लिए क्ष-किरण / X-Ray की जांच की जाती हैं। X-Ray जांच जरुरी होती है परंतु इसके दुष्प्रभावों से बचना भी असंभव होता हैं। जब भी कोई X-Ray हमारे शरीर से गुजरता है उससे कुछ प्रमाण में side effect जरूर होता हैं।

जब तक की बेहद जरुरी न हो X-Ray करने से बचना चाहिए। मैं यह लेख इसलिए भी लिख रहा हूँ क्योंकि अब तक के अपने Medical Practice में मैंने यह अनुभव किया हैं की रोगी या रोगी के परिजन कई बार अनावश्यक X-Ray परिक्षण के लिए जिद करते हैं। अनावश्यक X-Ray परिक्षण के दुष्प्रभावों को ध्यान में रखकर अपनी ओर से चिकित्सक से पर्चे पर X-Ray की जांच कराने की जिद नहीं करना चाहिए।

अधिकतर लोग X-Ray के दुष्प्रभावों से अनजान है और इसीलिए कई बार बिना किसी डॉक्टर के सलाह लिए X-Ray जांच करा लेते है और रिपोर्ट के साथ डॉक्टर के सामने पेश हो जाते हैं। हमें यह ध्यान रखना चाहिए की X-Ray, CT Scan और Mammography जैसे परिक्षण में Ionizing विकिरणों का प्रयोग किया जाता हैं, जो की हमारे शरीर के लिए कुछ प्रमाण में घातक होते हैं। Sonography और MRI परिक्षण में Ionizing विकिरणों का प्रयोग नहीं किया जाता है इसलिए यह परिक्षण तुलना में सुरक्षित होते हैं।

X-Ray-Side-effects-and-Prevention-tips-in-Hindi
X-Ray करते समय क्या ख़याल रखना जरुरी हैं ?

X-Ray परिक्षण करते समय निचे दी हुई बातों का ख्याल रखे :
  • X-Ray कराते समय डॉक्टर की सलाह का पालन करना चाहिए। 
  • X-Ray कराते समय भूखे पेट आना है या नहीं या कोई विशेष सावधानी है तो उसकी पूरी जानकारी लेनी चाहिए। 
  • X-Ray कक्ष में क्या सामान नहीं ले जाना है इसकी जानकारी लेना चाहिए। 
  • बच्चों में और महिलाओं में X-Ray परिक्षण के समय विशेष ख्याल रखना जरुरी होता हैं। बच्चे X-Ray के प्रति अति संवेदनशील होते हैं। बच्चों के जननांगो का X-Ray  से बचाव करना कठिन होता हैं। बच्चों के X-Ray निकालने के लिए माता-पिता को भी X-Ray कक्ष में रखना पड़ता हैं। ऐसे समय उन्होंने X-Ray radiation से बचने के लिए सुरक्षित Lead cover पहनना चाहिए। अगर माता गर्भवती है तो उन्होंने कक्ष से बाहर ही रुकना चाहिए।   
  • थाइरोइड ग्रंथि X-Ray radiation को अति संवेदनशील होती है और अधिक radiation से थाइरोइड विकार होने का खतरा रहता हैं। जरुरत पड़ने पर थाइरोइड कवर पहनना चाहिए।  
  • गर्भवती महिलाओं ने X-Ray परिक्षण अत्यधिक आवश्यक होने पर ही पूरी सावधानी के साथ कराना चाहिए। विशेषतौर पर Pregnancy के आठवे से पंद्रहवे सप्ताह में X-Ray बिलकुल वर्जित हैं। 
  • गर्भधारण योग्य आयु में महिलाओं ने आवश्यकता पड़ने पर X-Ray रजोधर्म / Period के प्रथम दस दिनों में ही करना चाहिए। 
कोई भी परिक्षण जैसे के CT Scan करना है या MRI करना है इसका निर्णय डॉक्टर की सलाह लेकर होनेवाले लाभ और हानि को ध्यान में रखकर ही करना चाहिए।

X-Ray के अनावश्यक और अति परिक्षण से क्या दुष्परिणाम हो सकते हैं ?

X-Ray के अनावश्यक और अति परिक्षण से निचे दिए हुए दुष्परिणाम हो सकते हैं :
  • X-Ray radiation की वजह से शारीरक और अनुवांशिक दुष्परिणाम हो सकते हैं। 
  • अधिक मात्रा में अनावश्यक X-Ray radiation से Leukemia या Blood Cancer हो सकता हैं। 
  • बच्चों में X-Ray radiation के अति उपयोग से जन्मजात मेरुदण्ड में विकृति, ह्रदय विकृति और हड्डियों के विकार हो सकते हैं। 
आप सभी से अनुरोध है की बिना डॉक्टर की सलाह कोई भी नुकसानदेह परिक्षण न करे। आपकी थोड़ी सी चूक किसी के लिए जन्मभर की विकृति या विकार को जन्म दे सकती हैं। 

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है और आप समझते है की यह लेख पढ़कर किसी के स्वास्थ्य को फायदा मिल सकता हैं तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook, Whatsapp या Tweeter account पर share जरुर करे !
loading...
Labels:

Post a Comment

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.