आजकल खान-पान से लेकर पानी और दूध में भी मिलावट होना एक आम बात हो गयी हैं। कहते है की पहले के ज़माने में सभी चीजे शुद्ध थी और इसी वजह से आज हमारे दादा-दादी 70 से 80 वर्ष के आयु में भी ज्यादा स्वस्थ और सशक्त हैं। हर पल बढ़ते प्रदुषण और खान-पान में मिलावट के कारण आजकल अति संवेदनशीलता / Allergy (एलर्जी) के मामलों में वृद्धि हो रही हैं।

हमारा शरीर जब किसी विशेष पदार्थ के प्रति अतिसंवेदनशीलता दर्शाता है तो उसे एलर्जी / Allergy कहा जाता हैं। जिस विशेष पदार्थ के प्रति शरीर यह अतिसंवेदनशीलता दिखाता है उसे एलेर्जन / Allergen कहा जाता हैं। कुछ मामलों में एलर्जी अधिक गंभीर समस्या निर्माण कर सकती हैं।

एलर्जी / Allergy के विविध कारण, लक्षण और निदान संबंधी अधिक जानकारी इस लेख में दी गयी हैं :

Allergy-causes-symptoms-diagnosis-in-Hindi
एलर्जी का क्या कारण हैं ?

एलर्जी किसी भी कारण से हो सकती हैं। हर मनुष्य में एलर्जी का कारण भिन्न-भिन्न होता हैं। अगर आपको एक चीज से एलर्जी है तो जरुरी नहीं है की किसी और को उसी चीज से एलर्जी होनी चाहिए। देखने में आया है की धरती पर उपलब्ध किसी भी चीज से एलर्जी हो सकती हैं।

एलर्जी से पीड़ित व्यक्ति जब किसी एलर्जन के संपर्क में आता है तो हमारा Immune system उसे शरीर के विरोधी तत्व के रूप में लेता है और उसके खिलाफ antibodies निर्माण करता हैं। इन antibodies से Histamine नामक केमिकल निकलता है जिसके प्रतिक्रिया के फलस्वरूप एलर्जी के विभिन्न लक्षण निर्माण होते हैं।

एलर्जी के मुख्य कारणों की जानकारी निचे दी गयी हैं :
  1. मौसम / Weather - मौसम में आनेवाले अचानक बदलाव के कारण एलर्जी हो सकती हैं। कुछ लोगो को अचानक बादल आने से एलर्जी होती है तो कुछ लोगो को धुप में निकलने पर भी एलर्जी हो जाती हैं। 
  2. अनुवांशिकता / Hereditary - अनुवांशिक कारणों से भी कुछ परिवारों में सभी लोगो को एलर्जी के कारण एलर्जिक अस्थमा हो सकता हैं। 
  3. प्रदुषण / Pollution - गाड़ी, मोटर और कारखानों से निकलने वाले धुए और केमिकल से हवा और पानी प्रदूषित हो जाते हैं। ऐसे प्रदूषित हवा या पानी से संपर्क में आने से एलर्जी हो जाती हैं। एक तरफ प्रदुषण हर दिन बढ़ रहा है और दूसरी तरफ पेड़ों की संख्या कम हो रही है, इस कारण एलर्जी के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही हैं। 
  4. पराग कण / Pollen - फूलों के छोटे-छोटे पराग कणो के कारण कई लोगो को एलर्जी हो जाती हैं। 
  5. सौंदर्य प्रसादन / Beauty Products - ज्यादातर लोग आज कल ज्यादा सुन्दर दिखने के लिए कई किस्म के केमिकल युक्त सौंदर्य प्रसाधनो का इस्तेमाल करते हैं। केमिकल युक्त पाउडर, लिपिस्टिक, शैम्पू, डिओड्रेंट, साबुन इत्यादि से एलर्जी के मामलों में बढ़ोतरी होती हैं। 
  6. धातु / Metals - आपको किसी भी धातु से एलर्जी हो सकती है जैसे लोहा, सोना, ऐलुमिनियम इत्यादि। ज्यादातर महिलाओ को नकली धातु के बने जवाहरात से एलर्जी होती हैं। 
  7. किटक / Insects - बिस्तर और घर में रहने वाले छोटे किटक, कीड़े और कॉकरोच के कारण भी एलर्जी हो सकती हैं।
  8. खाद्य पदार्थ / Food - कुछ लोगो को खाद्य पदार्थो से भी एलर्जी होती हैं। दूध, खीरा, टमाटर, बदाम, अंडा, मछली जैसे कई खाद्य पदार्थों से एलर्जी हो सकती हैं। बाजार में मिलने वाले केमिकल युक्त खाद्य पदार्थ खाने से भी एलर्जी होती हैं। 
  9. दवा / Medicine - दर्दनाशक दवा, सल्फा ड्रग्स, पेनिसिलीन जैसे कई दवा से एलर्जी हो सकती हैं। 
एलर्जी के और भी कई कारण है पर यहाँ पर मुख्य एलर्जी कारकों की ही जानकारी दी गयी हैं। एलर्जी से पीड़ित मनुष्य ने अपने अनुभव के आधार पर यह खोजने की कोशिश करनी चाहिए की उसे किस विशेष वस्तु का उपयोग करने पर एलर्जी होती हैं।

एलर्जी के लक्षण क्या हैं ?

एलर्जी के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग होते हैं। एलर्जन से संपर्क की मात्रा, क्षमता और पीड़ित व्यक्ति की रोग प्रतिकार शक्ति के अनुसार यह लक्षण कम-ज्यादा हो सकते हैं। सामान्य तौर पर देखे जानेवाले एलर्जी के लक्षणों जानकारी निचे दी गयी हैं :
  1. नाक में एलर्जी - बार-बार जुखाम होना, नाक से पानी बहना या नाक कफ से जाम हो जाना, खुजली आना, छींके आना इत्यादि। 
  2. त्वचा में एलर्जी - खुजली होना, त्वचा पर लाल चट्टे, खुजली करने पर चट्टे पड़कर सूजन आना इत्यादि। 
  3. आँख में एलर्जी - आँखों में से पानी आना, खुजली होना, आँखे लाल होना इत्यादि। 
  4. फेफड़ों में एलर्जी - सांस लेने में तकलीफ, फेफड़ों में कफ जम जाना, सांस लेते समय सिटी जैसा आवाज आना, घबराहट इत्यादि। 
  5. आहार और एलर्जी - कुछ लोगो को आहार पदार्थों से एलर्जी होती है जैसे की टमाटर, खीरा, दूध, अंडा या मछली इत्यादि। ऐसा आहार लेने पर अगर एलर्जी होती है तो गैस, उलटी, पेट दर्द, खुजली, जुलाब, त्वचा पर लाल चट्टे जैसे लक्षण नजर आते हैं। 
  6. सम्पूर्ण शरीर में एलर्जी - कभी-कभी किसी विशेष एलर्जन के संपर्क में आने पर अतिसंवेदन शीलता के कारण सम्पूर्ण शरीर में एलर्जी होकर घबराहट, सांस लेने में तकलीफ, चेहरे पर सूजन, खुजली जैसे लक्षण नजर आते है और पीड़ित को गंभीर अवस्था में हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ता हैं। 
  7. दवा से एलर्जी - दवा से एलर्जी होने पर पीड़ित की हालत बेहद ख़राब हो सकती है और तुरंत हॉस्पिटल में दाखिल कर उपचार कराना पड़ता हैं। 
एलर्जी का निदान कैसे किया जाता हैं ?

ज्यादातर मामलों में एलर्जी का निदान पीड़ित की शारीरिक जांच, लक्षण और एलर्जी का ईतिहास देखकर ही निदान हो जाता हैं। कुछ मामलों में अगर पीड़ित को पता नहीं चलता है की उसे किस चीज से एलर्जी हो रही हैं तो ऐसी अवस्था में पीड़ित की रक्त जांच / Blood Test की जाती हैं। रक्त जांच में शाकाहारी आहार, मांसाहारी आहार, दवा, वनस्पति, परागकण और किटक के प्रति संवेदन शीलता की जांच की जाती हैं।

रक्त जांच का रिपोर्ट आने पर जिस चीज के प्रति अतिसंवेदन शीलता निकलती है उस चीज से दुरी बनाने की सलाह दी जाती हैं। एलर्जी को सामान्य मानकर दुर्लक्षित करना बेहद खतरनाक हो सकता है। अगर आपको एलर्जी की समस्या है तो उसे कम करने के लिए उपाय करने चाहिए।

एलर्जी का उपचार और एलर्जी से बचने के उपाय जानने के लिए यह पढ़े - एलर्जी का उपचार और बचने के उपाय हिंदी में !

आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है !
अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है और आप समझते है की यह लेख पढ़कर किसी के स्वास्थ्य को फायदा मिल सकता हैं तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook , Whatsapp या Tweeter account पर share जरुर करे !
Keywords : Allergy causes, symptoms and diagnosis in Hindi,  Allergy ka karan aur upchar, एलर्जी / खुजली के कारण, लक्षण और निदान संबंधी जानकारी हिंदी में।  
loading...
Labels: ,

Post a Comment

  1. nice work about Allergy causes , symptoms and diagnosis. we also avoid low quality things at my mnak restaurant.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही उत्तम जानकारी है Hindi site

    ReplyDelete
  3. नाक में से पानी आने से बचने के उपाय बताइये

    ReplyDelete

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.