Thyroid ग्रंथी में T3 और T4 यह दो Thyroid हॉर्मोन निर्माण होते है जो की हमारे शरीर के चयापचय प्रणाली और अन्य हॉर्मोन के कार्य को नियंत्रित करते हैं। किसी कारण वश Thyroid ग्रंथी में इन हॉर्मोन के सामान्य से अधिक निर्मिती होने की अवस्था को Hyperthyroidism कहा जाता हैं। Hyperthyroidism के कारण शरीर पर कई प्रतिकूल परिणाम हो सकते हैं।

Hyperthyroidism के कारण, लक्षण और चिकित्सा संबंधी अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :

Hyperthyroidism-Symptoms-&-Treatment-in-Hindi


Hyperthyroidism का क्या कारण हैं ?

Hyperthyroidism कई कारणों से हो सकता हैं। इन कारणों की अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :
  • Grave's disease यह एक auto immune रोग हैं। यह महिलाओ में अधिक पाया जाता हैं और परिवार में कई लोगो को हो सकता हैं। इस रोग में शरीर के antibodies के कारण thyroid ग्रंथी से हॉर्मोन के स्त्राव अधिक होता हैं। 
  • अधिक मात्रा में आयोडीन शरीर में जाने से thyroid ग्रंथी में हॉर्मोन की निर्मिती अधिक होती हैं।
  • Thyroid ग्रंथी में Viral या bacterial संक्रमण कारणवश सुजन आने से अधिक मात्रा में हॉर्मोन का स्त्रवन होता हैं। 
  • अंडाशय में गाँठ 
  • वृषण (Testis) में गाँठ 
  • Lithium Carbonate जैसी दवा 
  • Pituitary या Hypothalamus ग्रंथी में गड़बड़ी 
  • Thyroid ग्रंथी में गाँठ 
  • गण्डमाला (Goiter)
Hyperthyroidism के क्या लक्षण होते हैं ?

Hyperthyroidism में कई सारे लक्षण पाये जाते हैं। जरुरी नहीं हैं की किसी Hyperthyroidism के रोगी में यह सारे लक्षण पाये जाए। Hyperthyroidism के लक्षण निचे दिए गए हैं :
  • गर्मी सहन न होना 
  • ज्यादा पसीना आना 
  • बालों का झड़ना 
  • कमजोरी 
  • ह्रदय गती तेज होना 
  • निद्रानाश 
  • अकारण वजन कम होना 
  • पुरुषो में स्तन वृद्धि 
  • हात कांपना 
  • कम मासिक आना 
  • खुजली आना 
  • नरम नाख़ून 
Hyperthyroidism के कुछ रोगियों में Cardiac failure होने के कारण सांस लेने में तकलीफ, घबराहट, सिने में दर्द और चक्कर आना ऐसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। ऐसे लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। 

Hyperthyroidism का निदान कैसा किया जाता हैं ?

Hyperthyroidism का निदान करने के लिए डॉक्टर आपकी शारीरक जांच करने के उपरांत Hyperthyroidism के लक्षण नजर आने पर निदान करने के लिए Thyroid Profile जांच करा सकते हैं .यह जांच कराने के लिए सुबह खाली पेट आपके खून का sample लिया जाता हैं।

आपके Thyroid Profile जांच report में T3 और T4 level सामान्य से ज्यादा आने पर और TSH level सामान्य से कम आने पर Hyperthyroidism का निदान किया जाता हैं। अगर T3 और T4 level सामान्य हैं और TSH level सामान्य से कम आता हैं तब भी Hyperthyroidism निदान किया जाता हैं।

Hyperthyroidism का निदान होने पर इसका कारण जानने के लिए गले का Ultra sound scan, CT Scan या MRI जाच की जाती हैं। Grave's disease का पता लगाने के लिए Anti-thyroid antibody test भी किया जाता हैं।

Hyperthyroidism का उपचार कैसे किया जाता हैं ?

Hyperthyroidism किस कारण हुआ हैं उस पर इसका उपचार निर्भर करता हैं। Hyperthyroidism के उपचार में मुख्य 3 चीजे आती हैं।
  1. Thyroid विरोधी दवा (Anti-Thyroid medicine) : Hyperthyroidism के उपचार में शुरूआती तौर Thyroid विरोधी दवा जैसे की Carbimazole, Neomercazole, Methimazole इत्यादि दी जाती हैं। अगर आपको Hyperthyroidism का असर कम हैं, आपको Grave's disease है और आपकी आयु 50 वर्ष से कम हैं या Thyroid ग्रंथी पर हलकी सुजन हैं तो डॉक्टर आपको Thyroid विरोधी दवा देते हैं।  
  2. Radioactive Iodine : अगर आपको Grave's disease हैं और आपकी आयु 50 वर्ष से अधिक हैं या आपके Thyroid ग्रंथी पर अनेक गाँठ है तब उपचार करने के लिए Radioactive Iodine का इस्तेमाल किया जाता हैं। अगर आप गर्भवती हैं या अगले 6 महीने में हो सकते हैं या आप बच्चे को दुग्धपान करा रहे है तो Radioactive Iodine नहीं ले सकते हैं। 
  3. शल्य चिकित्सा (Surgery) : आमतौर पर Hyperthyroidism के उपचार में operation की जरुरत नहीं पड़ती हैं। अगर आपकी Thyroid ग्रंथी इतनी बड़ी हो जाती हैं की आपको गले से निगलने में काफी मुश्किल हो रही है तब शल्य चिकित्सा की जाती हैं। 
  4. योग : Hyperthyroidism में योग करने से लाभ मिलता हैं। Hyperthyroidism से पीड़ित व्यक्तिओ को सर्वांगासन, मत्स्यासन, विपरितकरनी, हलासन, सेतुबंधासन जैसे योग आसन और कपालभाती, नाड़ीशोधन जैसे प्राणायाम करना चाहिए। Hyperthyroidism में कौन से योग करने चाहिए इसकी संपूर्ण जानकारी पढ़ने के लिए यहाँ click करे - Hyperthyroidism और योग द्वारा उपचार !
इनके साथ अन्य लक्षण जैसे हात कांपना, धड़कन तेज होना या ज्यादा पसीना आना जैसे लक्षणों के लिए अन्य दवा का उपयोग किया जा सकता हैं।

Image courtesy : iosphere at FreeDigitalPhotos.net


आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है !

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है और आप समझते है की यह लेख पढ़कर किसी के स्वास्थ्य को फायदा मिल सकता हैं तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plusFacebook या Tweeter account पर share करे !
loading...

Post a Comment

  1. आपने थाइरोइड की इतनी विस्तृत जानकारी दी हैं उसके लिए धन्यवाद।मुझे भी थाइरोइड हैं पर क्या इसका पूर्ण इलाज नहीं हैं क्या? हमेशा दवाई लानी पड़ती हैं ?क्या आर्युवेद मैं इसका parmanent कोई इलाज हैं क्या ?अगर कोई जानकारी हो तो जरूर बताइयेगा । धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज्यादातर थाइरोइड के मरीजो को हमेशा के लिए दवा लेने की जरुरत पड़ती हैं. रिपोर्ट के अनुसार दवा की मात्रा कम ज्यादा हो सकती हैं. आयुर्वेद और योगा से permanent ईलाज हो सकता है की नहीं यह कहना मुश्किल हैं. इस पर अभी शोधकार्य शुरू हैं. हर 3 महीने से जांच कराते रहना और डॉक्टर की सलाह अनुसार दवा लेना स्वास्थ्य के लिए बेहद जरुरी हैं.

      Delete
  2. Mujhe hyperthyroid hai.. T3-279.25
    T4-20.40
    Tsh-0.004
    Medicine ke ilava mujhe or kya karna chahiye

    ReplyDelete
  3. Meri aankhon ki eye ball bahar aa gyi he iska kya ilaj he? kya ye thyroid ki wajah se he plz reply

    ReplyDelete
  4. BAHUT ACHCHHI JANKARI ...DHAYNAYWAD

    ReplyDelete
  5. Very good and absolutly true fact about hyperthyroid

    ReplyDelete

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.