रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

गोमुखासन योग - विधि और लाभ

By Dr Paritosh Trivedi On, Friday, September 11, 2015


Gomukhasan Yoga steps and benefits in Hindi

गोमुखासन यह योग करते समय शरीर का आकार गाय के मुख के समान होने के कारण इसे 'गोमुखासन' कहा जाता हैं। अंग्रेजी में इसे ' The Cow Face Pose ' कहा जाता हैं। गोमुखासन महिलाओ के लिए अधिक फायदेमंद माना जाता हैं।

Weight loss करने के साथ ही शरीर को आकर्षक और सुडौल बनाने के लिए के यह बेहतरीन योग हैं। डायबिटीज के रोगियों में pancreas में insulin का secretion बढ़ाने के लिए भी यह योगासन मदद करता हैं। महिलाओं में स्तनों की वृद्धि में यह योग सहायक हैं।

गोमुखासन की विधि, लाभ और सावधानी संबंधी अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :

Gomukhasana-yoga-steps-benefits-techniques-in-Hindi
गोमुखासन 

गोमुखासन योग की विधि और फायदे 

गोमुखासन योग कैसे करते हैं ?

  • सर्वप्रथम एक स्वच्छ और समतल जगह पर एक दरी / चटाई या योगा mat बिछा दे। 
  • सुखासन या दण्डासन में बैठ जाये। 
  • अब बाए (Left) पैर की एडी (Ankle) को दाहिने (Right) नितम्ब (Hips) के पास रखिए। 
  • दाहिने पैर को बाई जांघ (Left Thighs) के ऊपर से cross करते हुए इस प्रकार स्थिर करे की घुटने (Knee) एक दुसरे के ऊपर रहने चाहिए। 
  • अब बाए (Left) हाथ को पीठ (Back) के पीछे मोड़कर हथेलियों को ऊपर की ओर ले जाए। 
  • दाहिना हाथ (Right hand) को दाहिने कंधे (Right Shoulder) पर सीधा उठा ले और पीछे की ओर घुमाते हुए कोहनी (Elbow) से मोड़कर हाथों को परस्पर बांध ले। अब दोनों हाथो को धीरे से अपनी दिशा में खींचे। 
  • अपने मुड़े हुए दाहिने हाथ को ऊपर की और अपने क्षमतानुसार तानकर रखे। 
  • शरीर को सीधा रखे।
  • श्वास नियंत्रित रखे और इस अवस्था में यथाशक्ति रुकने का प्रयास करे। 
  • इस आसन को हाथ और पैर को बदलकर पांच बार करे।  
  • अंत में धीरे-धीरे श्वास छोड़कर क्रमशः फिर से दण्डासन में बैठ जाये। 


गोमुखासन योग के फायदे क्या हैं ? 

  • यह आसन करने से शरीर सुड़ोल,लचीला और आकर्षक बनता हैं। 
  • वजन कम करने के लिए यह आसन उपयोगी हैं। 
  • गोमुखासन मधुमेह रोग में अत्यंत लाभकारी हैं। 
  • महिलाओं में स्तनों का आकार बढ़ाने के लिए यह विशेष लाभकर हैं। 
  • निचे दिए हुए रोग में यह लाभकारी हैं :
  1. गठिया 
  2. साइटिका
  3. अपचन 
  4. कब्ज 
  5. धातु रोग 
  6. मन्दाग्नि 
  7. पीठदर्द 
  8. लैंगिक विकार  
  9. प्रदर रोग 
  10. बवासीर 

गोमुखासन में क्या सावधानी बरते ?

  • कंधे, पीठ, गर्दन, नितम्ब या घुटनों में ज्यादा समस्या होने पर यह योग नहीं करना चाहिए। 
  • यह आसन करते समय कोई तकलीफ होने पर तुरंत योग विशेषज्ञ या डॉक्टर की सलाह लेना चाहिए। 
  • शुरुआत में पीठ के पीछे दोनों हाथो को आपस में न पकड़ पाने पर जबरदस्ती न करे। 
  • गोमुखासन का समय अभ्यास के साथ धीरे-धीरे बढ़ाना चाहिए।
अन्य योग संबंधी लेख पढने के लिए यहाँ क्लिक करे - योग और प्राणायाम

यह जानकारी अवश्य पढ़े :
  1. High Blood Pressure को कम करने के उपाय 
  2. गुनगुने पानी के साथ निम्बू और शहद लेने के फायदे !
  3. अब बालों का झड़ना रोकना है आसान !
  4. मोटापा कम करने के आसान उपाय !
  5. वजन बढ़ाने के उपाय !
  6. पेट की चर्बी कैसे कम करे ? पढ़े सरल उपाय 
  7. कब्ज / Constipation से छुटकारा पाने के घरेलु उपाय 
अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है और आप समझते है की यह लेख पढ़कर किसी के स्वास्थ्य को फायदा मिल सकता हैं तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook , Whatsapp या Tweeter account पर share जरुर करे !
Keywords : Gomukhasana yoga steps, posture, techniques and benefits in Hindi. गोमुखासन योग - विधि और लाभ, Gomukhasana kaise kare, Gomukhasan ke labh, Gomukhasana Hindi me.
loading...

No comments:

Post a Comment