Snoring जिसे हम हिंदी में 'खर्राटे लेना' कहते है, यह एक आम समस्या बन गयी हैं। Snoring को चिकित्सा भाषा में Sleep Apnea भी कहा जाता हैं। दुनियाभर में लगभग हर 5 में से एक व्यक्ति इससे पीड़ित हैं। ऐसा अनुमान हैं की लगभग 45 % पुरुष और 30 % महिलाए खर्राटे की समस्या से पीड़ित रहते हैं।

खर्राटे लेने वाले व्यक्ति को समाज में कई बार अपने तेज आवाज के खर्राटों के कारण शर्मिंदगी महसूस करनी पड़ती हैं। खर्राटों के कारण लोगो का मजाक भी उड़ाया जाता हैं। खर्राटे लेते समय कभी-कभी ठीक से सांस लेने में तकलीफ हो सकती है और 10 सेकंड तक श्वास नहीं ले पाने से शरीर को प्राणवायु / Oxygen का पर्याप्त संचारण नहीं होता है। ऐसे में नींद से उठने के बाद भी सुस्त लगना, कमजोरी और चिड़चिड़ापन ऐसी समस्या निर्माण हो जाती हैं। खर्राटे और कमजोरी की ज्यादा समस्या होने पर डॉकटर Sleep Study (Polysomnograph) यह जांच करा सकते हैं।

खर्राटे से जुडी अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :

Snoring Causes and Treatment In Hindi
खर्राटे आने का क्या कारण है ?

खर्राटे आने के कई कारण है। इन कारणों की अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :
  • संकीर्ण श्वासमार्ग / Narrow Airways : हमारे नाक, मुंह या गले में श्वास मार्ग किसी कारण संकीर्ण या छोटा होने से खर्राटे आते हैं। जब हवा इन छोटे श्वास मार्ग से गुजरती है तो आस पास के ऊतकों (tissues) में कंपन पैदा करती है जिससे खर्राटों का तेज आवाज आता है। 
  • नाक में तकलीफ / Nose problem : नाक में कफ, संक्रमण, नाक की हड्डी बढ़ना या नाक में किसी प्रकार के श्वासमार्ग के अवरोध के कारण खर्राटे आ सकते हैं। 
  • गले में तकलीफ / Throat Problem : गले में खराश, कफ जम जाना, Tonsil या Adenoids में सूजन  संक्रमण इत्यादि कारणों से खर्राटे आ सकते हैं।   
  • वृद्धावस्था / Old Age : उम्र के साथ गले के स्नायु कमजोर होने के कारण इनमे अधिक कंपन होने से खर्राटे आते हैं। 
  • मोटापा / Obesity : मोटापे से पीड़ित व्यक्तिओ में खर्राटे की समस्या अधिक होती हैं।    
  • उच्चरक्तचाप / Hypertension : उच्च रक्तचाप से पीड़ित व्यक्तिओ में खराटे की समस्या अधिक पायी जाती है। 
  • नशा / Drugs : सोने से पहले अधिक शराब पिने से या नींद की दवा लेने से खर्राटे आने की संभावना बढ़ जाती हैं। 
  • धूम्रपान / Smoking : धूम्रपान करनेवाले व्यक्तिओ में खर्राटों लेने का प्रमाण सामान्य व्यक्तिओ से दुगुना होता हैं। ऐसे व्यक्तिओ में श्वसननलिका में सूजन आने से श्वास मार्ग में अवरोध हो जाता हैं। 
  • निद्रावस्था / Sleeping Posture : अगर आप पीठ के बल सोते हैं तो इस अवस्था में सोने से गले के स्नायु शिथिल पड़ जाते हैं और श्वास मार्ग में अवरोध निर्माण करते है जिससे की खर्राटे आने चालू हो जाते हैं। 

खर्राटे की समस्या का ईलाज कैसे किया जाता हैं ?

खर्राटों का ईलाज, खर्राटे किस कारण आ रहे है इस पर निर्भर करता हैं। खर्राटों की चिकित्सा साधारण उपकरण और शल्य चिकित्सा (Surgery) दोनों प्रकार से की जाती हैं। खर्राटों की चिकित्सा संबंधी अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :
  • उपकरण / Device : खर्राटों की चिकित्सा के लिए कुछ उपकरणों का इस्तमाल कर सकते हैं, जैसे की :
  1. दांत का उपकरण : खर्राटों की समस्या कम करने के लिए मुंह में दांत पर रखने के लिए एक उपकरण का इस्तेमाल किया जाता हैं जिससे सोते समय जबड़ा आगे की ओर आ जाता हैं। जिन व्यक्तिओ में खर्राटे की समस्या मध्यम प्रमाण में हैं उन्हें इस उपकरण से लाभ मिल सकता हैं। 
  2. नाक के उपकरण / Nasal Device : Nasal CPAP (Continuous Positive Airway Pressure) उपकरण का उपयोग किया जाता है जिससे श्वास मार्ग का अवरोध दूर किया जाता हैं। 
  • शल्य चिकित्सा / Surgery : पीड़ित को खर्राटे आने के कारण अनुसार शल्य चिकित्सा कर उस कारण को दूर किया जाता हैं। खर्राटे की चिकित्सा करने के लिए निम्नलिखित शल्य चिकित्सा की जा सकती हैं :
  1. Tonsillectomy 
  2. Adenoidectomy
  3. Uvulectomy
  4. Deviated Nasal Septum Correction
  5. Excision of Nasal Polyp 
  6. Radio-frequency energy
  7. Somnoplasty etc 
खर्राटों से बचने के लिए क्या सावधानियाँ  बरतनी चाहिए ?

जो लोग खर्राटों की समस्या से पीड़ित हैं और जिन्हे अभी तक इस समस्या ने नहीं घेरा हैं उन्होंने भी, खर्राटों से बचने के लिए निम्नलिखित सावधानी बरतनी चाहिए :
  • वजन नियंत्रण / Weight Control : खर्राटों से बचने के लिए वजन नियंत्रण बेहद जरुरी हैं। खर्राटे लेने वाले और मोटे व्यक्तिओ का कई बार मजाक उड़ाया जाता है और इन्हे शर्मिंदगी महसूस करनी पड़ती है। वजन कम करने के लिए पढ़े - Weight Loss Guide 
  • नशा / Drugs : खर्राटों से बचने के लिए अगर आप कोई भी नशा कर रहे है तो कृपया अपने स्वास्थ्य के लिए इसे छोड़ दे। गुटखा, तंबाकू, बीड़ी, सिगरेट और शराब जैसे नशे से दूर रहे। नशा कैसे छोड़े यह जानने के लिए यह पढ़े - नशा कैसे छोड़े 
  • निद्रावस्था / Sleeping Posture : पीठ के बल सोने की जगह एक करवट पर सोने की आदत डाले। अगर हो सके तो सोने के समय सिर के निचे तकिया (Pillow) न रखे। हमेशा समय पर सोने की आदत रखे।   
  • रक्तचाप / Blood Pressure : अगर आपका रक्तचाप हमेशा 120 / 80 mmhg से अधिक रहता है तो डॉक्टर से जांच कराकर उसे नियंत्रित करे। 
  • आहार / Diet : समतोल पौष्टिक आहार लेना चाहिए। रात के समय भूक से अधिक खाने से बचे। सोने से पहले ज्यादा कफ निर्माण करने वाले आहार जैसे की दूध के पदार्थ, तीखा खाना और चॉकलेट नहीं लेना चाहिए।  
  • योग / Yoga : खर्राटों की समस्या से बचने के लिए आप योग का सहारा ले सकते हैं। कपालभाति और उज्जई प्राणायाम खर्राटों में लाभकर है। इसके साथ आप अनुलोम विलोम प्राणायाम भी कर सकते हैं। 
  • पानी / Water : दिनभर में कम से कम 3 से 4 लीटर पानी पीना चाहिए। शरीर में पानी की कमी से नाक और गले में गाढ़ा कफ तैयार हो जाता हैं जिससे श्वास मार्ग में रूकावट हो जाती हैं।  
  • अन्य उपाय / Others : खर्राटों से बचने के कुछ अन्य उपाय निचे दिये है :
  1. रात को सोने से पहले गर्म पानी में विक्स डाल कर बाफ (Steam) लेना चाहिए। 
  2. अगर नाक बंद है तो सोने से पहले नाक में docongestant डाले।  
  3. सीधे पंखे या AC की हवा चेहरे पर आये ऐसे नहीं सोना चाहिए। 
  4. बार-बार कान, नाक और गले के संक्रमण से बचने के लिए अपनी रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ाने की कोशिश करे। 
  5. खर्राटे की तकलीफ अधिक होने पर अपने डॉक्टर से जांच कराए। 
खर्राटे आपसे ज्यादा आपके परिवार के लिए एक बड़ी परेशानी हैं। अगर आपको खर्राटे की तकलीफ है तो उसे निजात पाने के लिए आज से ही प्रयत्न चालू कर दिजिए।
Image courtesy : David Castillo Dominici at FreeDigitalPhotos.net
आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है !

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है और आप समझते है की यह लेख पढ़कर किसी के स्वास्थ्य को फायदा मिल सकता हैं तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plusFacebook या Tweeter account पर share करे !
loading...

Post a Comment

  1. मुझे तो नहीं लेकिन मेरे 4 साल के बेटे को ये समस्या थी , वो ज्यादातर मुंह से ही सांस लेता था और जोर जोर ले खर्राटे भरता था ! ये शायद उसके बढे हुए टॉन्सिल की वजह से था ! लेकिन अब ठीक है ! बेहतर जानकारी देने वाली पोस्ट हैं आपकी

    ReplyDelete
  2. सच ही कहा आपने खर्राटे लेना आम हो चला है. इस विषय में इतनी अच्छी जानकारी देने के लिए बहुत धन्यवाद.
    http://www.sankesh.com/

    ReplyDelete
  3. Snoring या खर्राटें

    अति आवश्यक जानकारी मीली. आभार.

    दांत और नासिका के उपकरणों की जानकारी सविस्तार दिजीएगा. - यें क्या है, कैसे इस्तेमाल किया जाय, संभवित ज़ेलने पडती परेशानियाँ, क्या नामसे उपलब्ध हों सकती है, कहासे प्राप्त हो सके (ड्रग स्टोर या अन्य ) इत्यादि.

    धन्यवाद

    हिमतभाई पारेख, अमदावाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. दांत और नाक के उपकरण की अधिक जानकारी और वह आपके शहर में कहा उपलब्ध है इसको अधिक जानकारी आपको आपके शहर के परिचित कान, नाक, गले के डॉक्टर (ENT Specialist) से मिल सकते हैं. डॉक्टर आपको जांचकर आवश्यक उपकरण लिखकर दे सकते हैं.

      Delete
  4. Dear Sir,
    My mother also suffering such problem. I will give advise and consult a doctor for the same. Your post are really helpful to all and very realistic.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Mr Anoop for visiting the blog. Kindly share it with your friends and help in our mission of spreading the health awareness.

      Delete
  5. Hi,

    My son is also suffering from this. His age is 3.5 years. Please suggest me what should i do for him?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Kindly show if to ENT specialist to rule out any anatomical cause.

      Delete
  6. Thanks for giving us a valuable advice...

    ReplyDelete

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.