हमारे शरीर का तापमान कई वजहो से बदलते रहता रहता है जैसे खाना खाने से,कसरत करने से,सोने से और दिन के समय अनुसार। हमारे शरीर का तापमान शाम को 6 बजे सबसे ज्यादा रहता है और रात को 3 बजे के आसपास सबसे कम रहता है। सामन्यत: स्वस्थ्य व्यक्ति के शरीर का तापमान 98.6°F या 37°C  रहता है। 

शरीर का तापमान 98.6°F या 37°C से ज्यादा हो जाने पर उसे बुखार या ज्वर कहा जाता है।बुखार आना इस बात का संकेत है की हमारा शरीर किसी प्रकार के बाहरी संक्रमण जैसे की सर्दी-खांसी,फ्लू या कान के संक्रमण से लढ़ रहा है। 

अपने रोजाना मेडिकल व्यवसाय में मुझे कई बार मरीज या मरीज के परिजनों को समझाने में मुशकिल होती है की, "अगर आप एक स्तर तक बुखार का इलाज न भी करे तो आपको कोई नुकसान नहीं होंगा।" कई बार तो मरीज या उनके परिजन दवा लेने के बाद बुखार आने पर अपना आपा खो देते है और बहस करना शुरू कर देते है। उनके लिए बुखार आने का मतलब या तो दवा बेअसर है या बीमारी का और बढ़ जाना होता है। उनका यह व्यवहार जायज भी होता है क्योंकि उन्हें अपने अपने मरीज की परवाह होती है और साथ ही बुखार के बारे में अधूरी जानकारी होती है। 

उनका बुखार के बारे में यह अज्ञान हटाने के लिए मैंने कुछ ही दिनों पहले हमारे अस्पताल में बुखार के फायदे और उसकी देखभाल की संक्षिप्त जानकारी का लेख लगा दिया है। इसकी सकारात्मक प्रतिक्रिया भी अब हमें मिल रही है।

बुखार के बारे में लोगो के इस अज्ञान या भ्रांति को दूर करने के लिए मै उसी लेख को यहाँ आप के सामने प्रस्तुत कर रहा हु।

Benefits-of-Fever-In-Hindi
  • सबसे पहले यह समझना जरुरी है की आखिर हमें बुखार क्यों आता है या हमारा शरीर अपना तापमान सामान्य से ज्यदा क्यों बढ़ा देता है ? कोई भी Bacteria या Virus सिर्फ एक विशिष्ट तापमान पर ही कार्य कर सकता है जो की हमारे शरीर का सामान्य तापमान होता है। तापमान बढ़ने पर Bacteria या Virus न तो कोई कार्य कर सकते और न ही अपनी संख्या बढ़ा सकते है। यही वजह है जिस कारन हमारा शरीर अपना तापमान सामान्य से ज्यदा बढ़ा देता है।  
  • बुखार आने के एक और फ़ायदा यह है की बुखार के समय हमारी रोग प्रतिकार शक्ति की क्षमता दोगुनी हो जाती है। हमारा शरीर में बुखार के समय संक्रमण विरोधी पेशी के संख्या दोगुनी रफ़्तार से बढती है और इसकी वजह से हमारे शरीर में से विषाणु, नुकसानदेह चीजे और दृष्ट कैंसर पेशीयो (Cancer cells) का सफाया हो जाता है।
  • शोध से यह पता चला है की जो मरीज बुखार को अपने नैसर्गिक रूप से शांत होने देते उन मरीजो की बीमारी जल्दी ठीक होती है और साथ ही कम संक्रामक होती है। 
  • जो मरीज बुखार को अपने नैसर्गिक रूप से शांत होने देते उन मरीजो में कैंसर होने के जोखिम भी कम होता है। बुखार के वक्त हमारी रोग प्रतिकार शक्ति की क्षमता दोगुनी हो जाती है और शरीर में मौजूद कैंसर के दृष्ट पेशियों को सफाया हो जाता है। कैंसर की दृष्ट पेशी हमारे शरीर में हमेशा मौजूद होती है और यह आगे जाकर कैंसर की गाठ बन सकती है।
  • बुखार के वक्त हमारे शरीर में Interferon नामक Antiviral और Anticancer तत्व ज्यादा प्रमाण में तयार होता है जो की खतरनाक वायरस से स्वस्थ पेशियों का बचाव का कार्य करता है।  

अब तक आप को यह समझ में आ गया होंगा की बुखार हमारे लिए काफी फायदेमंद है। बुखार हमारे शरीर के लिए बहुउपयोगी है पर साथ ही इसे काबू में रखना भी उतना ही जरुरी है। एक हद से ज्यादा बुखार बढ़ जाने पर उसका उपचार करना भी जरुरी है अन्यथा: इसके विपरीत परिणाम हमारे शरीर पर हो सकते है।

बुखार का उपचार कब करना चाहिए और किस तरह करना चाहिए इसकी अधिक जानकारी लेने के लिए यह पढ़े - Benefits of Fever (In Hindi) - Part 2 

नोट:- कृपया ध्यान दे की इस अंक में दी गई जानकारी आप के बुखार सम्बन्धी गलतफहमी दूर करने के लिए दी गई है। अधिक जानकारी हेतु अपने डॉक्टर की सलाह जरुर ले। 

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook या Tweeter account पर share करे !

loading...
Labels:

Post a Comment

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.