रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

सर्दी के मौसम में कैसे रखे अपने स्वास्थ्य का ख्याल ?

By Dr Paritosh Trivedi On, Sunday, November 12, 2017


सर्दी का मौसम शुरू हो गया है और इसके साथ ही हॉस्पिटल में सर्दी-खांसी और जुखाम के मरीजों की संख्या भी बढ़ रही हैं। अक्सर लोग बीमार होने के बाद अपने खानपान में बदलाव करते हैं जबकि बीमारी होने से पहले ही अगर हम ऋतू अनुसार योग्य आहार लेते है तो शरीर को स्वस्थ रखा जा सकता हैं।

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए और रोग प्रतिकार शक्ति को मजबूत रखने के लिए सही पोषण की जरुरत होती हैं। सर्दी / Winter के दिनों में हमें ऐसे आहार की जरुरत होती है जो शरीर को गर्म रखे और immunity power को बढ़ाये। अगर आपको अस्थमा, डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, टीबी या त्वचा रोग है तो सर्दी में खान-पान का विशेष ध्यान रखना पड़ता हैं। 

सर्दी के मौसम में कुछ खास फल और सब्जी का अपने आहार में समावेश कर आप बिमारियों से छुटकारा पा सकते हैं। सर्दियों के ख़ास खान-पान की जानकारी निचे दी गयी हैं :

winter-health-diet-ayurveda-tips-in-hindi

सर्दी के मौसम में कैसे रखे अपने स्वास्थ्य का ख्याल ?

Winter Diet tips in Hindi

सर्दी के दिनों में स्वस्थ और निरोगी रहने के लिए आपने अपने आहार में किन चीजों का समावेश करना चाहिए इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :
  • सब्जियां / Vegetables : सर्दी में हरी सब्जियां अवश्य खाना चाहिए। इनमे प्रचुर मात्रा में विटामिन्स होते है जो शरीर को गर्म रखने और रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ाने में सहायक हैं। सर्दी में पालक, चुकंदर, लहसुन, बथुआ, ब्रोकोली, पत्तागोभी, गाजर का सेवन करना चाहिए। 
  • मूंगफली / Groundnut : सर्दी के दिनों में आपको मूंगफली का सेवन जरूर करना चाहिए। मूंगफली में प्रोटीन, फाइबर, मिनरल, आयरन, विटामिन प्रचुर मात्रा में होते है। इसीलिए इसे गरीबों का बादाम भी कहा जाता हैं। सर्दी में शरीर को गर्म रखने के लिए, खून की मात्रा बढ़ाने के लिए और Immunity strong करने के लिए मूंगफली और देसी गुड़ साथ में खाना चाहिए। 
  • लहसुन / Garlic : भारत में सदियों से लहसुन के औषधि गुणों का उपयोग आयुर्वेदिक औषधि में और किचन में किया जा रहा हैं। आज आधुनिक विज्ञान भी इसके औषधि गुणों को मान रहा हैं। सर्दी में लहसुन का सेवन करने से आप मौसमी सर्दी, जुखाम और खांसी से छुटकारा पा सकते हैं। 
  • तिल / Sesame : सर्दियों में तिल खाने से ऊर्जा मिलती हैं। तिल के तेल से मालिश करने से त्वचा मुलायम बनी रहती है और ठण्ड से बचाव होता हैं। तिल और गुड़ का साथ में सेवन करने से शरीर को जरुरी पोषक तत्व मिलते हैं, ऊर्जा मिलती हैं, इम्युनिटी बढ़ती है और खांसी-कफ से राहत मिलती हैं। 
  • गाजर / Carrot : गाजर में विटामिन प्रचुर मात्रा में होने से रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ती है और आँखे स्वस्थ रहती हैं। इसे खाने से शरीर में गर्माहट बनी रहती हैं। 
  • बाजरा / Pearl Millet : भारत के कई हिस्सों में सर्दियों में बाजरा अधिक खाया जाता हैं। बाजरा में मैग्नीशियम, कैल्शियम, फाइबर, विटामिन और एंटी ऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में होता हैं। खासकर छोटे बच्चों को बाजरा अवश्य खाना चाहिए। 
  • हल्दी / Turmeric : सर्दियों में हल्दीवाला गर्म दूध रोजाना रात में पिना स्वास्थ्यकर होता हैं। इसमें एंटीबायोटिक गुणों के साथ एंटी एलर्जिक और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण हैं। रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ने के लिए यह श्रेष्ठ आयुर्वेदिक औषधि हैं। 
  • मेथी / Fenugreek : मेथी में विटामिन K, आयरन और फोलिक एसिड होता हैं। शरीर को गर्म रखने के साथ शरीर में खून की मात्रा बढ़ाने में यह मदद करती हैं। 
  • बादाम / Almond : बादाम में प्रोटीन, फाइबर, मिनरल होते है जो सर्दी में मौसमी बिमारियों से बचाव करते हैं। इसे रोजाना खाने से दिमाग तो तेज होता ही है साथ में कब्ज की समस्या भी नहीं होती हैं। डायबिटीज को नियंत्रित करने में भी यह मदद करता हैं। 
  • फल / Fruits : सर्दिओं में आपको मौसमी फल जैसे संतरा, सेब, अनार, आंवला आदि खाना चाहिए जो शरीर को पोषण, ऊर्जा और गर्माहट देते हैं। फलों का जूस बनाकर पिने से अच्छा है की आप सीधे स्वच्छ फल खाये। इससे पाचन भी ठीक रहता हैं। 
  • च्यवनप्राश : सर्दियों में च्यवनप्राश अवशय खाना चाहिए। सुबह शाम एक चमच्च च्यवनप्राश के साथ एक ग्लास गर्म दूध पिने से आपको शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य लाभ होता हैं। यह बुढ़ापे की गति को कम करने के लिए सबसे अच्छा तरीका हैं। च्यवनप्राश के फायदे जानने के लिए यह पढ़े - च्यवनप्राश क्या है ?
  • अन्य / Others : सर्दियों में हल्का और सुपाच्य भोजन करे। खाना हमेशा गर्म और तजा होना चाहिए। भोजन में तरल पदार्थ की मात्रा बढ़ाये। सर्दियों में अक्सर सर्दी जुखाम हो जाता है। ऐसे में खाने में बड़ी इलायची, लौंग, काली मिर्च, तेजपत्ता, अदरक जैसे गर्म मसालों इस्तेमाल पर्याप्त मात्रा में करे। 
आयुर्वेद में शरीरक बल बढ़ाने के लिए सर्दियों के मौसम को श्रेष्ट बताया गया हैं। इस मौसम में आप पोषक आहार के साथ व्यायाम और खेल कूद कर अपना शारीरिक बल, स्वास्थय और स्टैमिना बढ़ा सकते हैं। 

सर्दी के मौसम में क्या एहतियात बरते ?

  1. सर्दी-जुखाम का संक्रमण आसानी से फैलता हैं। आपको या किसी और को यह समस्या है तो खाने - पिने से पहले अपने हाथ साबुन से साफ करे। अपना टॉवल, रुमाल, पानी, गिलास आदि अलग रखे। 
  2. सर्दी-जुखाम होने पर सुबह शाम बाफ / steam लेना न भूले। 
  3. सुबह खुली ताज़ी हवा में जरूर टहले पर स्वेटर, कानटोपि आदि से अपनी सुरक्षा जरूर करे। 
  4. अगर आपको दमा या एलर्जी की शिकायत है तो अपना इनहेलर या पंप हमेशा पाने साथ रखे। हल्की सर्दी या खांसी होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे। अधिक ठन्डे पानी से न नहाए। 
  5. सर्दियों में अक्सर लोग घूमने जाते हैं। ऐसे में अपने साथ अपने मेडिकल रिकॉर्ड और चल रही प्रेशर या डायबिटीज दवा की अतिरिक्त खुराख हमेशा अपने साथ रखे। 
  6. सर्दियों में त्वचा रूखी और शुष्क हो जाती हैं। त्वचा को मुलायम रखें के लिए ग्लिसरीन गुलाब जल रोजाना लगाए। 
  7. सर्दियों में भूक ज्यादा लगती हैं पर आपको बाजार में मिलनेवाले फ़ास्ट फ़ूड की जगह पौष्टिक फल या घरेलु आहार ही खाना चाहिए। 
शरीर को शारीरिक रूप से स्वस्थ और मजबूत बनाने के लिए सर्दियों के दिन उत्तम होते हैं। आपको इन दिनों में योग्य दिनचर्या का पालन कर इस स्वास्थ्यकर समय का पूरा लाभ लेना चाहिए। 

अगर आपको यह सर्दियों में हमने कैसा आहार लेना चाहिए और अपनी रोग प्रतिकार शक्ति कैसे बढ़ानी चाहिए की जानकारी उपयोगी लगी है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे।    
loading...

No comments:

Post a Comment