रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

सेब खाने के फायदे और नियम

By Dr Paritosh Trivedi On, Saturday, October 14, 2017


अंग्रेजी में कहावत है, " An Apple a day, keeps the Doctor away !" हम बचपन से ये सुनते आ रहे है और ये काफी हद तक सच भी है। अपने बेहतरीन गुणों के कारण #सेब / #Apple को जादुई फल भी कहा जाता है। सेब दुनिया भर में व्यापक रूप में उगाए जाने वाला फल है। इसके पेड़ की ऊंचाई करीब करीब 15 मीटर होती है। कच्चे अवस्था में सेब हरे एवं स्वाद में खट्टे होते हैं पर पकने पर यह लाल गुलाबी हरित आभा लिए मीठे एवं रसदार हो जाते हैं।    

आयुर्वेद के हिसाब से सेब वातपित्तनाशक, शीतल, गुरु, पुष्टिकारक, हृदय के लिए फायदेमंद, वीर्यवर्धक तथा गुर्दों को साफ करनेवाले होते है। यह पोषकतत्व, विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट एवम खनिज से परिपूर्ण स्त्रोत है। इसमें फास्फोरस सर्वाधिक मात्रा में होता है इसके अतिरिक्त आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, प्रोटीन, शर्करा तथा बी समूह के विटामिन भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। फायबर का पर्याप्त स्त्रोत होने के कारन यह रेशेदार फल के रूप में जाना जाता है, जो कि पाचन स्तर को सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कार्बोहाइड्रेट का एक रुप पेक्टिन भी इसमें पाया जाता है। 

सेब खाने से होनेवाले विभिन्न स्वास्थ्य लाभ की जानकारी निचे दी गयी हैं :


apple-health-benefits-in-hindi

सेब खाने के फायदे Health benefits of Apple in Hindi

सेब खाने से निम्नलिखित फायदे होते हैं :
  • रखे हृदय को स्वस्थ : सेब में मौजूद फ़ायटोन्यूट्रिएंट्स हृदय के कार्यप्रणाली की रक्षा करने में सक्षम होते है। सेब के नियमित सेवन से कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण में रहता है। हृदय के लिए काफी फायदेमंद होने के कारण इसे हृदय का साथी भी कहा जाता है।
  • पथरी के मरीजों में भी करता है फायदा : पथरी के रोगियों के लिए सेब काफी फायदेमंद होता है। इन लोगों ने प्रतिदिन तीन से चार सेब पूर्णतः पके हुए खाने चाहिए। 
  • दूर होगी मस्तिष्क की कमजोरी : मस्तिष्क की कमजोरी दूर करने के लिए यह अचूक उपाय है। प्रतिदिन एक सेब का सेवन मस्तिष्क को ताकत देता है। साथ ही रोगी को दोपहर और रात के खाने में कच्चे सेब की सब्जी दे । शामको 1 सेब का रस दे तथा रात में 1 पका सेब खिलाएं। इससे एक महीने में ही रोगी की दशा में सुधार आने लग जाएगा।
  • आँखो की कमजोरी करे दूर : जिन लोगों को आंखों की कमजोरी है, उन्हें कुछ दिन तक आंखों पर ताजे सेब पर ताजे सेब की पुल्टिस बांधनी चाहिए तथा भोजन में प्रतिदिन ताजा मक्खन एवं एक मीठा सेब सेब लेना चाहिए। इससे आंखों की ज्योति बढ़ाने में मदद होती है साथ ही दस्त एवं पेशाब खुलकर आता है एवं चेहरे में रौनक भी आने लगती है। 
  • अस्थमा में देता है राहत : सेब में मौजूद फ्लैवोनॉइड्स श्वासमार्ग की सूजन कम करते है एवम फेफड़ों की ताकद व इम्युनिटी बढ़ाते हैं। जिससे फेफड़ों को स्वतंत्र रूप से साँस लेने में सहायता होती है। एक अध्ययन में पाया गया है कि सेब के नियमित सेवन से अस्थमा का खतरा करीब 30 से 35 प्रतिशत तक कम होता है। 
  • बुखार में उपयोगी : बुखार में रोगी को प्यास, जलन, थकान तथा बेचैनी हो तो सेब की चाय या ताजे सेब का रस पिलाना चाहिए। इससे रोगी को तुरंत आराम मिलेगा। 
  • छालों में मिलता है आराम : गले में घाव, छाले या निगलने में कष्ट हो रहा हो तो ताज़े सेब का रस चम्मच से गले में डाले एवं कुछ देर गले में रोक कर रखें, इससे आश्चर्यजनक लाभ मिलेगा।
  • पेट मे गैस से दे राहत : पेट में गैस की शिकायत रहती हो तो एक मिठे सेब में 10 grm लौंग चुभाकर रख दे। 10 दिन बाद लौंग निकालकर 3 लौंग एवं एक मीठा सेब प्रतिदिन खाए। इस दौरान चावल या उस उस से बनी चीजें रोगी को खाने ना दें, इससे गैस की समस्या से राहत मिलेगी। 
  • पेट के कीड़ों से मिले छुटकारा : पेट के कीड़ों  से निजात के लिए रोगी को प्रतिदिन दो सेब दे या एक गिलास सेब का रस इससे पेट के कीड़े मल के रास्ते बाहर निकल जाएंगे।
  • कब्ज से मुक्ति : कब्ज हो तो प्रतिदिन सुबह खाली पेट दो सेब खाए, इससे धीरे-धीरे कब्ज से छुटकारा मिलेगा साथ ही अग्निमांद्य भी दूर होगा एवम् भूख भी लगेगी। ध्यान रखे कि कब्ज की समस्या में सेब को छिलकों सहित खाएं। 
  • मधुमेह में भी है फायदेमंद : सेब पाचन प्रक्रिया व कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को प्रभावित करता है। यह न सिर्फ रक्त में ग्लूकोज़ के स्तर को नियंत्रण में रखता है बल्कि मधुमेह होने से भी बचाता है। यह इन्सुलिन के उत्पादन को भी प्रोत्साहित करता है। 
  • हड्डियों को देता है मजबूती : कैल्शियम और फोस्पोरस का अच्छा स्त्रोत होने के कारण हड्डियों को मजबूती देता है। ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम करता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट के कारण हड्डियां बार बार टूटने से बचती है।  
  • लिवर से करता है विषाक्त पदार्थों को दूर : सेब में विषहरण गुण उत्तम मात्रा में पाए जाते है। अगर आप नियमित रूप से सेब खाते हो तो शरीर मे विषाक्त पदार्थ कम होते है। अगर 2 दिन केवल सेब पर रहा जाए तो विषाक्त पदार्थों का अंत होकर शरीर की पाचन प्रक्रिया एवम रक्त प्रवाह में सुधार आता है। लिवर याने जिगर के रोगियों के लिए तो सेव काफी फायदेमंद होते हैं। इन्हें प्रतिदिन भोजन से एक घंटा पहले एक से दो सेब का सेवन करना चाहिए या सेब की चाय पीनी चाहिए।
  • एनीमिया को करता है दूर : सेब में प्रचुर मात्रा में आर्यन होता है। इसलिए जिन व्यक्तियों में खून की कमी है, उन्हें प्रतिदिन 2 से 3 एप्पल खाने चाहिए जिससे धीरे धीरे उनकी खून की कमी पूरी होती है। 
  • वजन घटाने में भी है उपयोगी : सेब में फाइबर्स प्रचुर मात्रा में होते है, जब कि कैलोरीज कम होती है, इसीलिए ये वजन घटाने में सहायता करता है। एक अध्ययन के अनुसार जो व्यक्ति दिन में 2 से 3 सेब खाते है, वे दूसरे लोगो की तुलना में जल्दी वजन घटा सकते है। सेब खाने का सबसे अधिक फायदा ये है कि इसमें कम कैलोरीज व पोषकतत्व अधिक होने के कारण आप इससे अपनी भूख भी शांत कर पाएंगे साथ ही शरीर का पोषण होते हुए वजन भी कम होने में मद्त मिलती है। 
  • अनिद्रा से राहत : नींद ना आती हो या रात में 1- 2 बजे नींद खुल कर दोबारा नींद नहीं आती हो, तो रोगी को रात को सोने के पहले मीठे सेब का मुरब्बा खिलाएं एवं उसके ऊपर गुनगुना दूध पिलाएं। इसे नींद अच्छी आएगी। 
  • पुरानी खाँसी में कारगर : पके सेब के 1 ग्लास रस में मिश्री मिलाकर सुबह नियमित पीने से पुरानी से पुरानी खांसी भी ठीक हो जाती है। 
  • मनोरोग : जिन्हें सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, बेहोशी, उन्माद या भूलनेकी समस्या हो वो प्रतिदिन 2 ताज़े मीठे सेब भोजन से पहले सेवन करे। ऐसे रोगी को चाय - कॉफ़ी छोड़कर प्रतिदिन केवल एप्पल की चाय ही पीनी चाहिए। 
  • दांतों का पीलापन करे दूर : सेब दांतों को मजबूती देने के साथ ही दाँतोंका पीलापन दूर करने में मद्त करता है। यह टूथब्रश की तरह काम करता है, जिससे कई जिद्दी दागों से छुटकारा मिलता है। लेकिन इसमें शुगर व एसिड होने से इसे खाने के पश्चात अच्छी तरह से कुल्ला करना चाहिए। 
  • मस्तिष्क के लिए है लाभदायक : सेब में मौजूद quercetin मस्तिष्क को तेज़ी प्रदान करता है और उसकी कोशिकाओं को स्वस्थ बनाता है, जिससे अल्ज़ाइमर जैसी भूलने की बीमारि दूर रहती है। कोशिश करे कि सेब का सेवन छिलको के साथ करे। 
  • बचाये कैंसर से : सेब में फ़ायटोन्यूट्रिएंट्स व एंटीऑक्सीडेंट्स का समृद्ध स्त्रोत है , जो न केवल कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है बल्कि उनको नष्ट भी करता है। 

सेब खाने का तरीका व सही समय

  1. कोशिश करे कि जब भी सेब खाएं उसे छिलके के साथ खाएं। छिलकों में फाइबर व विटामिन प्रचुर मात्रा में होते है। 
  2. सेब हो या कोई अन्य फल कभी भी खाने के साथ या तुरन्त बाद ना खाएं। क्योंकि फल व अनाज का पचने का समय अलग अलग होता है। सेब या तो खाने के आधा घण्टा पहले या 2 घण्टे बाद खाये। 
  3. अगर आपको कब्ज की शिकायत रहती है तो हर रोज सुबह नाश्ते के समय 1 सेब खाने की आदत बना ले। इससे आपको मल त्याग करने में आसानी होगी। 
  4. कोशिश करे कि रात में सेब ना खाएं क्योंकि सेब में मौजूद पेक्टिन आंतो के लैक्टिक एसिड की रक्षा करता है व अच्छे बैक्टेरिया को बढ़ाता है, जिससे मल त्याग करने में आसानी हो। किन्तु पेक्टिन यह कार्य आंतो पर भार देकर करता है , जिससे पेट मे गैस भरे होने का अनुभव होता है। कई बार रात को शौच जाना पड़ता है एवम सुबह उठने पर भी तरोताज़ा महसूस नही होता है। 
  5. अगर आपका पाचन सही है तो सेब को आप दिन के किसी भी समय खा सकते है। 
  6. सेब या अन्य कोई भी फल को कभी भी दूध के साथ फ्रूट सलाद बना कर ना खाए आयुर्वेद के अनुसार यह विरुद्ध अन्न  होता है और यह रक्त को दूषित करता है जिससे त्वचारोग जैसे कई बीमारियां होती है।
  7. आप इसका जूस भी बनाकर पी सकते हो बशर्ते उसमे शुगर न हो। 
तो यह है, रसभरे, स्वादभरे सेब के गुण व फायदे। इस तरह सेब / Apple यह न केवल एक फल है बल्कि बीमारियों को दूर रखनेवाला एवम शरीर को पोषण देनेवाला एक खजाना है। आशा करते है, यह लेख पढ़कर आप सेब का पूरा लाभ उठाएंगे।
loading...

1 comment: