रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

गर्भावस्था में बदहजमी की समस्या से निपटने के ७ उपाय

By Dr Paritosh Trivedi On, Wednesday, September 6, 2017



अगर आज भी कोई मुझसे मेरे गर्भवती होने के तर्जुबे का बारे में पूछता है तो यही वो बात है जो सबसे पहले मेरे दिमाग में आती है। जब मैं अपनी बेटी आरिया के लिए गर्भवती हुई तो कुछ शुरूआती हफ्तों के दौरान मेरी खुशी का ठिकाना न था और इसकी वजह थी कि मैं खुद को बहुत ऊर्जावान और चुस्त-दुरूस्त महसूस कर रही थी क्योंकि उस समय मुझे बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि गर्भावस्था में अपने हाजमे को लेकर मुझे क्या-क्या परेशानियां झेलनी पड़ेंगी!!

यह सब तब शुरू हुआ जब मुझे दो माह का गर्भ था और मुझे खाने की नली में एक अजीब तरह की जलन का अहसास हुआ जिसे सीने की जलन कहा जाता है। शुरूआत में तो यह खाना खाने के बाद लगभग दो घंटों तक ही रहती थी पर धीरे-धीरे यह पेरशानी इतनी बढ़ गई कि मैं पूरी रात ठीक से सो तक नहीं पाती थी।

यह इतनी तकलीफदेह थी कि इसके डर से मैनें वास्तव में खाना खाना ही छोड़ दिया था। यह मेरे और पेट में पलने वाले शिशु दोनों के लिए अच्छा नहीं था पर एक महीने बाद मैनें फैसला लिया कि ‘बस, अब बहुत हो चुका’ और मुझे इस तकलीफ से निज़ात पाने का कोई तरीका ढूंढना ही पड़ेगा क्योंकि यह खुद से ठीक होने वाली बीमारी नहीं थी। यह तब मुमकिन हो पाया जब मैनें बड़ी संजीदगी से अपनी हालत के बारे में जाना और एक ऐसा तरीका खोजने की कोशिश की जिससे गर्भावस्था में सीने की जलन से राहत के लिए किसी एंटैसिड या बनावटी पदार्थ का सेवन की जरूरत ही न पड़े।

यहाँ मैं अपने निजी तर्जुबे से उन 7 बातों के बारे में बताने जा रही हूँ जिन्होने गर्भावस्था में बदहजमी की समस्या निपटने में मेरी बड़ी मदद की और मुझे उम्मीद है कि यह जानकारी दूसरी गर्भवती महिलाओं के काम भी आएंगी!!!


pregnancy-nausea-vomiting-tips-in-hindi

गर्भावस्था में बदहजमी की समस्या से निपटने के ७ उपाय 

Pregnancy digestion Tips in Hindi

1. ध्यान दें - क्या और कैसे खाना है

गर्भावस्था में हमारा शरीर सुरक्षित और सेहतमंद रहे यह पक्का करने के लिए शरीर बहुत से हारमोनल बदलावों से गुजरता है और बदहजमी या इससे जुड़ी दूसरी तकलीफें इसी वजह से होती हैं। इस बदलाव का एक नतीजा यह भी होता है कि हम जो खाना खाते हैं वह बहुत धीरे-धीरे पचता है जिससे गर्भनाल के जरिए ज्यादा से ज्यादा पोषक तत्व पेट में पलने वाले शिशु तक पहुंच सकें। तो जो भी खाना आप खाती हैं, इसका सीधा संबंध आपकी परेशानियों से होता है इसलिए गर्भावस्था में सीने की जलन की तकलीफ से बचने के लिए इन बातों को जरूर अपने दिमाग में रखेंः

1. दिन में तीने बार भरपेट खाने के बजाय थोड़ा-थोड़ा और लगातार खायें
2. सोने के लिए जाने के कम से कम दो घंटे पहले खाना खा लें
3. तीखी, मसालेदार, तली हुई या जंक फूड से पूरी तरह परहेज करें
4. खाते समय सीधे तन कर बैठें

2. जानें - क्या खाने से आपकी तकलीफ बढ़ती है

अपने खाने-पीने की आदतों की जांच-परख करें और यह पता लगायें कि किस चीज को खाने से आपको बदहजमी की समस्या होती है। मेरे मामले में नीबूं या इस जैसी दूसरी चीजों के रस का सेवन सीने की जलन की खास वजह थी तो एसे खाने-पीने वाली से परहेज करें। ऐसा करके आपको अपनी हालत में बदलाव के साथ-साथ काफी सुधार महसूस होगा।

3. आईसक्रीम पहली पसंद

बदहजमी और सीने की जलन से राहत देने में आईसक्रीम ने मेरी बहुत मदद की। मेरा फ्रिज हमेशा मेरे पसंदीदा फ्लेवर की आईसक्रीम से भरा रहता था और यकीनन आईसक्रीम ने इन परेशानियों से राहत देने में कमाल का काम किया क्योंकि जलन के अहसास को मिटाने के लिए कुछ भी ठंडा खाना हमेशा कारगर होता है तो आईसक्रीम खाती रहें पर ध्यान रहे कि यह बहुत ज्यादा न हो। इसी तरह एक कटोरा दही खाना भी बदहजमी और सीने की जलन से राहत देने में बहुत कारगर होता है।

4. शरीर में पानी की कमी न होने दें

अच्छी तादाद में पानीदार चीजों का सेवन हाजमे से जुड़ी परेशानियों में बहुत कारगर होता है, खासकर एसीडिटी और मितली आने जैसी समस्याओं में। लगातार मितली होने की वजह से आपके शरीर का बहुत सा पानी बाहर निकल जाता है और यह आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। इसलिए यह यह जरूरी हो जाता है कि आप ज्यादा से ज्यादा तरल पीते रहें जिससे शरीर में पानी की कमी न होने पाए। दूध पीना भी गर्भवती माताओं को पानी की कमी से बचाने में बहुत असरदार और फायदेमंद होता है

5. सेब खाएं, बदहजमी से बचें

सेब को आप फल या भोजन कुछ भी कहें पर यह कमाल की चीज है। यह मेरी गर्भावस्था के समय बदहजमी से बचने के सबसे उपयोगी तरीकों मे से था और गर्भावस्था में सेब खाने से मुझे बदहजमी की तकलीफ से निपटने में बहुत मदद मिली। सेब में आयरन काफी तादाद में होता है जो पेट की परतों को आराम देने और बदहजमी से जुड़ी समस्याओं से निजात दिलाने में मददगार होता है। अगर आप सेब खाना नापसंद हो तो आप आयरन से भरपूर कोई और फल जैसे आंवला या अनार भी खा सकती हैं।

6. कैफीनयुक्त चीजों से परहेज करें

मैं जानती हूँ कि आपको चाय या काॅफी पीना पसंद है लेकिन फिर भी मेरी सलाह है कि यदि आप सीने की जलन से परेषान हैं तो चाय या काॅफी पीना कम कर दें क्यांेकि वह जलन के अहसास को बढ़ाती है।

7. डाॅक्टर द्वारा बताये गये हल्के एंटेसिड का सेवन

इन बुनियादी नुस्खों को अपनाने के बावजूद भी अगर आपको बदहजमी या दूसरी परेशानियां महसूस हों तो अपने डाॅक्टर की सलाह के मुताकिब कुछ हल्के एंटेसिड लें और किसी खान-पान विशेषज्ञ की भी सलाह लें जिससे इन तकलीफों के साथ तालमेल कर पाने में मदद मिले। इन समस्याओं पर शुरूआत में ही ध्यान दें जिससे आपकी गर्भावस्था का समय खुशनुमा और सेहतमंद बना रहे।

यह लेख हमारे साथ Parentune team ने साझा किया हैं। Parentune भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली पेरेंटिंग कम्युनिटी है जो पेरेंट्स को अपने बच्चों के लिए उपयुक्त सलाह और सहयोग देती हैं। और जाने Parentune के बारे में - http://www.parentune.com/ 
Image Source - Parents.com

अगर आपको यह गर्भावस्था में बदहजमी की समस्या से निपटने के ७ उपाय की जानकारी उपयोगी लगती है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे। 
loading...

No comments:

Post a Comment