रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

नवरात्र के व्रत में ऐसे रखें अपने स्वास्थ्य का ख्याल

By Dr Paritosh Trivedi On, Monday, September 25, 2017


भारत में खासकर महिलाए और कुछ प्रमाण में पुरुष भी नवरात्रि के त्यौहार में व्रत / उपवास करते हैं। लोग भगवान के प्रति अपनी आस्था के रूप में भले ही व्रत करते हैं पर डॉक्टर्स का कहना है की स्वास्थ्य के दृष्टीकोण से अगर सही तरीके से नवरात्रि का व्रत किया जाये तो इससे आपके सेहत को बेहद लाभ मिलता है और साथ ही वजन नियंत्रण करने में भी मदद होती हैं। 

अगर आप भी इस नवरात्र अपनी आस्था को मजबूत करने के साथ-साथ अपनी सेहत को बेहतर बनाने के लिए उपवास करने का मन बना रही है तो अपने खानपान में कुछ खास बातों का ध्यान रखकर आप इन हे बिना परेशानी के पूरा कर पाएंगी। 

नवरात्र की तैयारियां शुरू हो चुकी है इन 9 दिनों में पूरे देश में खासतौर से पूर्वी पश्चिमी और उत्तरी भाग में दुर्गा मां के 9 अवतारों की पूजा अर्चना की जाती है इन 9 दिनों में हर उम्र के भक्तों उपवास भी करते हैं। अपनी मनोकामना की पूर्ति इन व्रतों के पीछे मुख्य वजह होती है। इन 9 दिनों में उपवास के दौरान आपको फलाहार पर निर्भर रहना होगा और इस बात का ध्यान भी रखना होगा कि आपकी उर्जा सामान्य स्तर पर बनी रहे। 

नवरात्रि के व्रत कैसे करे और अपने स्वास्थ्य का ख्याल कैसे रखे इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :


navratri-fasting-tips-in-hindi

नवरात्र के व्रत में ऐसे रखें अपने स्वास्थ्य का ख्याल ?

  • कम ना होने दें एनर्जी को : लगातार 9 दिन तक उपवास करने से आपका ग्लूकोज का स्तर कम हो सकता है और आप थकान महसूस कर सकती है। आपकी भक्ति के साथ-साथ आपकी शारीरिक शक्ति भी बनी रहे इसके लिए सबसे अच्छा उपाय होगा कि थोड़े थोड़े अंतराल पर छोटी-छोटी मिल्स / आहार लेती रहे। इन आहार में आपको भरपूर मात्रा में फल और ड्राई फ्रूट्स को शामिल करें। यह आपको जरूरी पोषक तत्व प्रदान करने के साथ-साथ शरीर की उर्जा को भी बनाए रखेंगे। 
  • शरीर में पानी का प्रमाण : व्रत के दौरान आपको अपने पोषण का ही नहीं बल्कि अपने शरीर को हाइड्रेट रखने पर भी ध्यान देना होगा। शरीर में पानी की कमी ना हो इसके लिए भरपूर पानी पीने के अलावा दूसरे तरह तरल पदार्थों का सेवन भी करती रहे। इसके लिए नारियल पानी, नींबू पानी, फ्रूट जूस, ग्रीन टी और छाछ जैसे विकल्पों को अपनाया जा सकता है। यह सभी पौष्टिक विकल्प है जो शरीर को हाइड्रेट और पेट को हल्का करने में काफी मददगार साबित होते हैं। 
  • कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन : इसमें कोई दो राय नहीं है कि कार्बोहाइड्रेट्स एनर्जी का बेहतरीन स्रोत है और यही वजह है कि व्रत में कार्बोहाइड्रेट युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन को महत्व दिया जाना चाहिए। इसी के लिए आलू, टमाटर, लौकी, सीताफल और साबूदाना से बने व्यंजन को अपने भोजन में शामिल करें। कुट्टू का आटा भी इस लिहाज से बहुत फायदेमंद होता है। इसमें 70 फ़ीसदी से ज्यादा कार्बोहाइड्रेट और 25 फ़ीसदी तक प्रोटीन रहता। 
  • तले हुए स्नेक से दूर रहे : अगर आप रात से जुड़े फायदे का पूरा लाभ लेना चाहती है तो आपके अपने खानपान के प्रति सजग रहना होगा। स्नैक्स में नमकीन और अन्य तले हुए खाद्य पदार्थों से दूर रहे क्योंकि यह पाचन में भारी होने के साथ-साथ वजन को भी कम नहीं होने देंगे। इसके बजाय आप फ्रूट चाट या खीरे का रायता को जगह दे सकती है। फ्रूट शेक से भी एनर्जी प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट की कमी को पूरा किया जा सकता है। 
अगर आपको डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, एसिडिटी आदि को समस्या है तो डॉक्टर की राय लेकर ही आपको व्रत करना चाहिए। व्रत करते समय अगर आपको चक्कर आना, जी मचलाना, पेट दर्द जैसे कोई लक्षण नजर आते है तो आपको तुरंत डॉक्टर से चेकअप कराना चाहिए।

Click करे और अवश्य पढ़े - उपवास करने के फायदे

यह जानकारी हमें डॉ श्वेता सींग ने अहमदाबाद से भेजी हैं। निरोगकाया टीम और पाठकों की और से उन्हें बहोत बहोत धन्यवाद !
अगर यह नवरात्रि के व्रत से जुडी जानकारी आपको उपयोगी लगी है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे !
loading...

No comments:

Post a Comment