रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

बच्चों को घी खिलाने के क्या फायदे हैं ?

By Dr Paritosh Trivedi On, Saturday, September 2, 2017



भारतीय परिवारों में घी / #Ghee खाने को बहुत महत्व दिया जाता है। हर उम्र में घी खाने की सलाह दी जाती है। घी शरीर को ताकत और शक्ति देता है। जितना एक बड़े व्यक्ति के लिए घी खाना ज़रूरी होता है उससे कहीं ज़्यादा ज़रूरी छोटे बच्चों के लिए होता है। 

जन्म के पश्चात छह महीने तक बच्चे को सिर्फ स्तनपान करवाया जाता है। परंतु 6 महीने के बाद बच्चों को संपूरक आहार देना प्रारंभ किया जाता है उस स्थिति में आहार में घी को शामिल किया जाना ज़रूरी हो जाता है। 

बच्चों के खाने में उचित मात्रा में घी शामिल करना क्यों जरुरी है इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :


ghee-health-benefits-kids-hindi

बच्चों को घी खिलाने के फायदे Health benefits of Ghee in Hindi

  • पाचन / Digestion : तीन से साथ वर्ष की उम्र के बच्चे के भोजन में घर तथा बाहर का खाना शामिल हो जाता है। वे हर तरह का भोजन खाने लगते हैं। कई भोजन ऐसे होते है जिसको पचाने में मुश्किल होती है और बच्चों को गैस की समस्या होने लगती है। ऐसे में भोजन में घी शामिल किए जाने से गैस की समस्या से बचा जा सकता है। शुरुआत में बच्चों को पतली दाल या दाल के पानी में घी डालकर खिलाया जा सकता है। इससे दाल का स्वाद भी बढ़ जाता है।
  • कब्ज / Constipation : अलग-अलग तरह का खाना जहाँ न पचने के कारण गैस जैसे मुश्किल पैदा करता है वहीं बच्चों को इससे क़ब्ज की समस्या भी हो सकती है। इससे उनका पेट कड़ा हो जाता है औए पेट में दर्द भी होने लगता है। ऐसी स्थिति में घी ऐसा आहार है, जो बच्चों को आसानी  से पच जाता है बच्चों को घी खिलाने से उन्हें कब्ज़ की शिकायत नहीं होती क्योंकि उनके शरीर में चिकनाहट बनी रहती है। 
  • ऊर्जा / Energy : Fat (वसा)  का एक स्वस्थ स्त्रोत है तथा यह बहुत अधिक मात्रा में ऊर्जा देता है जो की तीन से सात वर्ष की आयु के बच्चों के लिए लाभदायक होता है। घी उनके विकास और वृद्धि में मदद करता है। इसके साथ की घी खाने से बच्चे के दिमाग का विकास करता है।
  • वजन / Weight : एक साल का होने तक बच्चे का वज़न उसके जन्म के समय के वज़न से तीन गुना अधिक बढ़ जाता है। अत: बच्चे के उचित विकास के लिए उसके आहार में उर्जा प्रदान करने वाले खाद्य पदार्थ जैसे घी आदि शामिल करना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। बच्चे के वजन के मुताबिक ही उसे घी की मात्रा दें जैसे यदि बच्चे का वजन पहले से ही ज्यादा हो तो कम मात्रा में घी दें और यदि बच्चा कमजोर हो तो उसे कुछ अधिक मात्रा में घी दें।
  • कफनाशक / Cough : घी का इस्तेमाल उपचार के लिए भी किया जा सकता है। घी गरम होता है। इसलिए घी से बच्चों की छाती और पीठ पर मालिश करने से कफ की शिकायत दूर हो जाती है। कई बार अधिक हिचकी आने के स्थिति में आहा चम्मच घी खिलाने से हिचकी आना रुक जाता है। 
इस तरह घी पोषक होने के साथ-साथ बच्चो के स्वास्थ्य और शारिरिक विकास के लिए बेहद जरुरी होता है। बच्चों के आयु और वजन के हिसाब से उचित मात्रा में घी अवश्य खाने में मिलाकर खिलाना चाहिए। आयुर्वेद में भी घी को स्वास्थ्यकर बताया गया हैं। बच्चों को घर का बना देसी घी खिलाना ज्यादा उचित रहता हैं।

यह लेख हमारे साथ Parentune team ने साझा किया हैं। Parentune भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली पेरेंटिंग कम्युनिटी है जो पेरेंट्स को अपने बच्चों के लिए उपयुक्त सलाह और सहयोग देती हैं। और जाने Parentune के बारे में - http://www.parentune.com/ 

अगर आपको यह बच्चों को घी खिलाने के लाभ की जानकारी उपयोगी लगती है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे। 
loading...

No comments:

Post a Comment