रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

काजू खाने के फायदे और नुकसान

By Dr Paritosh Trivedi On, Sunday, April 23, 2017


काजू अपने स्वाद के कारण मेवों की दुनियां का लोकप्रिय मेवा है। सूखे मेवे में काजू अपना एक अलग महत्वपूर्ण स्थान रखता है। काजू को हम मेवों का राजा भी कह सकते है। अपने स्वादिष्ट गुणों के साथ ही काजू अनेक रोगों पर काबू पाने व शरीर को स्वस्थ रखने की क्षमता रखता है।

काजू की दो किस्मे होती है एक श्वेत और एक श्याम। यह स्वाद में कसैला होता है। यह वायु, कफ, गुल्म, उदररोग, ज्वर, कृमि, व्रण, अग्निमांद्य, कोढ़, अर्श और अफरा को मिटाता है। यह वातशामक, भूख को बढ़ाने वाला तथा हृदय को हितकारी होता है। हृदय की दुर्बलता तथा स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए काजू लाभकर होता है। 

काजू में मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटेशियम, कॉपर, जिंक, आयरन, सेलेनियम जैसे जरूरी तत्व होते हैं। काजू में प्रचुर मात्रा में विटामिन ई होता है जिससे यह एंटी एजिंग का भी काम करता है। काजू का तेल हल्के पीले रंग का होता है तथा शुद्ध घी के बराबर पुष्टिकर होता है।

काजू के गुण और काजू से होनेवाले स्वास्थ्य लाभ की जानकारी निचे दी गयी हैं :


cashew-nuts-benefits-side-effects-in-hindi

काजू खाने के फायदे और नुकसान 

काजू खाने के स्वास्थ्य लाभ Health Benefits of Cashew nuts in Hindi

शीतकाल में काजू की गिरी कच्ची, भुनी हुई, तली हुई, नमक मिर्च लगी हुई आदि अनेको प्रकार से खाई जाती है,  जो काफी स्वादिष्ट एवं बलवर्धक होती है। साथ ही मिठाईयां नमकीन और स्नैक्स में भी काजू का इस्तेमाल होता है। आजकल काजू का प्रयोग कई सब्जियों में ग्रेवी बनाने के लिए भी होता है इससे सब्जी काफी स्वादिष्ट बनती है। शाकाहारी व्यक्तियों के लिए काजू  प्रोटीन का एक अच्छा स्त्रोत होता है।

काजू खाने से होनेवाले विभिन्न स्वास्थ्य लाभ की जानकारी निचे दी गयी हैं :
  • प्रोटीन / Protein : काजू का सेवन नाड़ी मंडल तथा पाचन प्रणाली की सक्रियता बढ़ाता है, साथ ही खून की कमी एवं कमजोरी पर नियंत्रण रखने में भी फायदेमंद होता। इसकी विशेषता यह है कि अत्यधिक प्रोटीन युक्त आहार होने के बावजूद इसके सेवन से शरीर में यूरिक एसिड नहीं बनता है, जो कि अन्य पदार्थों के अधिक सेवन से शरीर में बनता है वह शरीर को नुकसान करता है। काजू में मौजूद प्रोटीन का पाचन भी शरीर में जल्दी होता है।
  • मस्तिष्क की दुर्बलता दूर करे : दुर्बल बालक या वयस्क अत्याधिक पढ़ने या दिमागी काम करने से थक जाते हैं या उन्हें सिर दर्द होने लगता है उनके लिए काजू का सेवन उपयोगी है। उम्र के अनुसार 10 से 25 ग्राम तक काजू की गिरी सुबह खाली पेट खा ले। ऊपर से थोड़ा सा शहद चाटले। इससे मस्तिष्क के नाड़ियों में शक्ति प्राप्त होगी। सर्दियों के मौसम में ऐसा लगातार 3 महीने तक करने से दिमाग की कमजोरी दूर हो जाएगी।
  • कमजोरी करे दूर : रोजाना कुछ मात्रा में काजू और किशमिश एक साथ खाने से शारीरिक कमजोरी दूर होती है।
  • कब्ज की परेशानी से राहत : काजू खाने से शरीर का  मेटाबोलिज्म सही रहता है। प्रातकाल बिना कुछ खाए 10 काजू और 5 किशमिश खाने से कब की समस्या दूर होगी। पेट में गैस या अफारा हो तो काजू को पानी के साथ पीसकर चटनी बना लें और इसमें नमक मिलाकर खाने से फायदा होगा।
  • काले मस्सों का इलाज : शरीर की त्वचा पर छोटे छोटे काले मस्से हो गए हो तो काजू के छिलकों का तेल लगाइए, इससे मस्से साफ हो जाएंगे।
  • एडियों की दरारे भरें : अगर एड़ियां फट गई हो तो दरारों वाली स्थान पर काजू का तेल लगाने से आराम मिलता है। 
  • मिले हड्डियों को मजबूती : हड्डियों को कैल्शियम के साथ मैग्नीशियम भी जरूरी होता है। हमारे शरीर को प्रतिदिन 350 से 700 मिलीग्राम मैग्नीशियम की आवश्यकता होती है। काजू में प्रोटीन ओर मैग्नीशियम अधिक मात्रा में होने से इसके प्रतिदिन सेवन से हड्डियों को अंदर से मजबूती मिलती है।
क्लिक करे हुए अवश्य पढ़े - मूंगफली खाने के फायदे और नुकसान 

  • डायबिटीज पर नियंत्रण : रिसर्च से पता चला है कि 2 से 4 काजू के नियमित सेवन से डायबिटीज का खतरा दृर रहता है और अगर आपको डायबिटीज  हो तो इसे बढ़ने से रोकता है। पर अधिक मात्रा में काजू खाने से बचे। 
  • हृदय रखे स्वस्थ : काजू में वसा की मात्रा अन्य में मेवों की तुलना में काफी कम होती है साथ ही इसमें मौजूद ओमेगा फैटी एसिड एवम ओलिक एसिड हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है। बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। एक्सीडेंट्स की वजह से और कम कोलेस्ट्रॉल के कारण यह दिल की बीमारियों से दूर रखता है। इसमें सोडियम की मात्रा कम होती है तथा पोटेशियम एवं मैग्नीशियम अधिक मात्रा में होता है इसलिए यह रक्तचाप पर नियंत्रण रखता है।
  • मजबूत मसूढ़े मजबूत दाँत : काजू के सेवन से दांत और मसूड़ों में मजबूती आती है साथ ही दातों को चमकदार बनाने में मददगार साबित होता है।
  • पेट के कीड़ों का इलाज : बच्चों के पेट में कीड़े हो तो रोजाना दूध के साथ काजू खाने से कीड़े निकल जाते हैं।
  • पूरी होती है खून की कमी : काजू में आयरन काफी मात्रा में पाया जाता है जो कि खून बढ़ाने में मददगार होता है। इसके सेवन से आयरन की कमी पूरी होती है।
  • कैंसर से रखे दूर : काजू में मौजूद proanthocynidins नामक flavonols कैंसर से लड़ने की क्षमता रखता है। यह घटक ट्यूमर कोशिकाओं से लड़ने में शरीर की मदद करता है तथा पेट के कैंसर से भी दूर रखता है। साथ ही कैंसर में विटामिन E और सेलेनियम जैसे एंटीऑक्सिडेंट्स मौजूद रहते हैं जो कैंसर को पनपने से रोकते हैं। 
  • पित्त की पथरी से बचाव : रिसर्च से पता चला है कि नियमित रुप से काजू के सेवन से पित्ते की पथरी में करीब 25% तक बचाव होता है।
  • बढ़ाए बालों की मजबूती : काजू में कॉपर मौजूद होता है इससे यह बालों को घना, लंबा और मजबूती प्रदान करने में मदद करता है। इसके नियमित सेवन से बाल झड़ने की समस्या भी दूर होती है।
  • त्वचा के लिए फायदेमंद : काजू में प्रोटीन मौजूद होने से यह त्वचा के लिए लाभ करता है। काजू यह तैलीय व शुष्क दोनों त्वचा को फायदा पहुंचाता है। 
  1. अगर आपकी त्वचा तैलीय है तो रात को कुछ काजू भिगोकर सुबह उसमें मुल्तानी मिट्टी और थोड़ा नींबू या दही और शहद मिलाकर पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से चेहरा दमकने लगता है। 
  2. काजू का तेल शरीर पर मलने से त्वचा मुलायम होती है।
  3. काजू का तेल सफेद दाग पर लगाने से वह धीरे धीरे कम होने लगते हैं।
  4. कुष्ठ रोग से उत्पन्न त्वचा की शुन्यता काजू के तेल की मालिश से धीरे-धीरे दूर होती है।
  • गर्भवती महिलाओं के लिए लाभ : काजू में भरपूर मात्रा में विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं इसलिए यह गर्भवती मां एवं बच्चे दोनों के लिए लाभ करता है। इस तरह काजू के नियमित सेवन से शरीर में शक्ती, स्फुर्ती और उत्साह विकसित होता है।


काजू के नुकसान क्या हैं ? Side effects of Cashew nut in Hindi 

जरूरत से ज्यादा मात्रा में कोई भी चीज का सेवन करने से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
  1. अत्यधिक मात्रा में काजू खाने से पेट खराब हो सकता है, जिसे दस्त लग रहे हो ऐसे व्यक्ति को काजू का सेवन नहीं करना चाहिए।
  2. काजू गर्म होता है अतः अंगूर ( द्राक्ष / किशमिश ) शर्करा या शहद आदि के साथ इसका सेवन करना चाहिए। 
  3. अति मात्रा में काजू का सेवन करनेसे रक्तस्त्राव होने का खतरा होता है। 
  4. अधिक मात्रा में काजू के सेवन से वजन भी बढ़ सकता है। 
  5. वैसे तो काजू खाने से BP कंट्रोल में रहता है लेकिन कई लोग बाजार से नमकीन वाले काजू खरीद कर वह खाते हैं जिससे सोडियम की मात्रा बढ़ जाती है और उसका परिणाम आपका BP बढ़ने में भी हो सकता है।
क्लिक करे और अवश्य पढ़े - बादाम खाने के फायदे और नुकसान
इस तरह सीमित मात्रा में काजू का नियमित प्रयोग कर आप काजू के अंदर मौजूद गुणों का खजाना पा सकते हैं और साथ ही कई बीमारियों से शरीर की रक्षा भी कर सकते हैं।
अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी है तो कृपया इसे शेयर अवश्य करे !
Designed by Freepik
loading...

No comments:

Post a Comment