रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय
Home रोग योग आयुर्वेद डाइट सलाह सभी लेख परिचय

Whiteheads से छुटकारा पाने के 11 घरेलु आयुर्वेदिक उपाय


अक्सर चेहरे पर सफेद रंग के दाने अक्सर नजर आते हैं। इसे सफ़ेद कील या Whiteheads कहते हैं। ऐसा तब होता है जब चेहरे के रोम छिद्र बंद हो जाते हैं। ऐसे में त्वचा / Skin से अतिरिक्त तेल बाहर नहीं आ पाता। इन दानों की वजह से चेहरे की रौनक खत्म हो जाती है। 

वाइट हेड्स की समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है पर यह समस्या युवावस्था में अधिक पायी जाती हैं। इन सफ़ेद कील के कारण मेकअप अधिक समय तक चेहरे पर नहीं टिक पाता है और चेहरा निस्तेज बन जाता हैं।चेहरे की रौनक बनाये रखने के लिए इन वाइट हेड्स से छुटकारा पाना जरुरी बन जाता हैं। 

वाइट हेड्स से छुटकारा पाने के कुछ असरदार घरेलु आयुर्वेदिक उपचार की जानकारी निचे दी गयी हैं :


whiteheads-treatment-home-remedies-in-hindi
loading...

नस्य पंचकर्म की विधि और लाभ


नस्य, यह पंचकर्म के अंतर्गत की जानेवाली एक अद्भुत चिकित्सा पद्धति है। इस चिकित्सा पद्धति में नाक के द्वारा औषधि या औषधि सिद्ध स्नेह जैसे की तेल, घी या क्वाथ शरीर में पहुचाया जाता है। सभी पंचकर्म पध्दति में से नस्य यह सबसे सरल परन्तु बेहद असरदार उपचार हैं। 

आयुर्वेद में कहा गया है " नासा ही शिरसो द्वारम। " अर्थात नाक यह हमारे मस्तिष्क का प्रवेश मार्ग (gate) है। इसलियें शिरोव्याधि अर्थात मस्तिष्क से जुड़ी बीमारियों में नाक द्वारा औषधि द्रव्य की बूंद डाली जाती है। नस्य का दूसरा अर्थ नासिका के लिए जो हितकर है, यह भी होता है। यह निश्चित लाभदायक चिकित्सा पद्धति है। 

आज के इस लेख में हम नस्य पंचकर्म क्या है, इसे कैसे किया जाता है और इसके लाभ क्या है इसकी पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। नस्य पंचकर्म की संपूर्ण जानकारी नीचे दी गयी हैं :

nasya-karma-benefits-procedure-in-hindi
loading...

एलोवेरा के 7 फायदे और नुक्सान


एलोवेरा को आयुर्वेद में घृतकुमारी भी कहा जाता हैं। एलोवेरा के प्रसिद्ध आयुर्वेदिक औषधि हैं। इसके पत्तों के जेल में Vitamin A, B1, B3, B6, B12, E और Folic acid जैसे कई महत्वपूर्ण तत्व पाए जाते हैं। इसके साथ ही इसके रस / Juice में Iron, Sodium, Calcium, Zinc और Magnesium जैसे खनिज तत्व भी होते हैं। एलोवेरा के उपयोग से शरीर को अंधरुनि और बाहरी दोनों लाभ होते हैं।

आजकल योग गुरु बाबा रामदेव जी के योग और आयुर्वेद के प्रचार के कारण एलोवेरा जूस का उपयोग लाखों लोग कर रहे हैं। एलोवेरा जूस या जेल के उपयोग करने से पहले आपको इसके फायदे और नुकसान की जानकारी होना आवश्यक हो जाता हैं। एलोवेरा का इस्तेमाल करते समय क्या सावधानी बरतना चाहिए इसकी जानकारी भी आपको होना जरुरी हैं।

एलोवेरा जूस के फायदे और नुकसान से जुडी जानकारी नीचे दी गयी हैं :

aloe-vera-side-effects-health-benefits-in-hindi
loading...

Protein Supplements लेने के क्या नुकसान हैं ?


आज कल कई युवा जल्द body या muscles बनाने के लिए Protein Supplements का इस्तेमाल कर रहे हैं। Protein हमारे शरीर के लिए एक उपयोगी तत्व हैं। Protein को हमारे शरीर का building block भी कहा जाता है क्योंकि यह हमारे शरीर की वृद्धि के साथ-साथ रोजाना होनेवाले शारीरिक क्षति को भी ठीक करता हैं।

Gym में घंटों पसीना बहाने के बाद muscle का mass बढ़ाने के लिए और tissues को पहुचनेवाली क्षति ठीक करने के लिए तुरंत Protein की जरुरत होती हैं। यही वजह है की Gym trainer आपको workout करने के बाद Protein युक्त आहार या Protein shake लेने के लिए कहते हैं। Protein Supplements में Whey Protein का ज्यादातर इस्तेमाल होता हैं।

इसमें कोई दोराय नहीं है की Protein Supplements से आपकी body जल्द बनेंगी पर साथ में आपको इस बात की जानकारी भी होनी चाहिए की अधिक मात्रा में यह कृत्रिम Protein के Supplements लेने से आपके शरीर को नुकसान भी पहुंच सकता हैं। Protein Supplements लेने से शरीर को क्या हानि पहुँचती है इसकी जानकारी आज इस लेख में हम आपको नीचे दे रहे हैं :

whey-protein-powder-side-effects-in-hindi
loading...

आयुर्वेदिक विरेचन पंचकर्म के फायदे और विधि


आयुर्वेदिक पंचकर्म चिकित्सा का महत्व आज सारी दुनिया जान चुकी हैं। लकवा, सोरायसिस, दमा, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, त्वचा रोग, कैंसर, आर्थराइटिस जैसे रोगों के उपचार के साथ-साथ शरीर को स्वस्थ और युवा रखने के लिए आयुर्वेदिक पंचकर्म का उपयोग किया जाता हैं। आयुर्वेद के पंचकर्म की जानकारी की अगली कड़ी में आज इस लेख में हम विरेचन चिकित्सा के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। 

शास्त्रोक्त तरीके से आयुर्वेदिक औषधि देकर शरीर के बढ़े हुए पित्त दोषों को दस्त (Stool) द्वारा शरीर के अधोमार्ग से बाहर निकालने के विधि को विरेचन कहा जाता हैं। अगर हम आधुनिक भाषा में कहें तो विरेचन को शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर फ्लश करने की पद्धति कहा जा सकता है। आधुनिक भाषा में इसे Purgation कहा जाता हैं। 

विरेचन यह बच्चों से लेकर बूढ़ों तक ऋतु, शरीरबल, अवस्था के अनुसार प्रशिक्षित वैद्य अर्थात आयुर्वेदिक डॉक्टर के निर्देशन में ले सकते है। विरेचन कैसे किया जाता हैं, इसके फायदे क्या हैं और इसमें किन बातों का ख्याल रखा जाना चाहिए इसकी सारी जानकारी इस लेख में नीचे दी गयी हैं :


virechana-in-hindi
loading...