Yoga for normal easy delivery in Hindi
गर्भवती होते ही डाक्टर आपको काम करते रहने और चुस्त-दुरूस्त रहने की सलाह जरूर देते हैं और गर्भावस्था में खाली और सुस्त पड़े रहने की बजाय अगर आप पहली दो तिमाही के समय सक्रिय रहें तो मुमकिन है कि आपको जन्म देते समय कम दर्द के साथ-साथ आसान प्रसव का अहसास हो।

हालांकि, गर्भावस्था के समय पैदल चलना आमतौर पर सबसे अच्छा व्यायाम माना जाता है, पर प्रसव से पहले का योग, न केवल आपको चुस्त-दुरूस्त रखता है बल्कि आपके शरीर के निचले हिस्से को मजबूत बना कर एक सेहतमंद शिशु को जन्म देने के लिये भी आपको तैयार करता है और यह मैं, अपने खुद के तर्जुबे से कह सकती हूँ। 

अपनी गर्भावस्था के समय मैंने नीचे दिये गये तीन आसन किये जिसकी वजह से मेरा प्रसव बड़ी आसानी से हुआ और मुझे ज्यादा दर्द भी नहीं सहना पड़ा। गर्भावस्था को आसान बनानेवाले यह तीन योगासन कौन से है और इन्हे कैसे करना है इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :

yoga-in-pregnancy

गर्भावस्था में कौन से योग करना चाहिए ? Best Yoga to do in Pregnancy in Hindi  

अब मैं आपको उन तीन बुनियादी योगासनों के बारे में बताउंगी जो आप बड़ी आसानी से घर में ही कर सकती हैं और जो आपके तन-मन को एक आसान प्रसव के लिये तैयार करेंगे।   

1. नमस्कार करना 

यह बुनियादी योगासन है और सूर्यनमस्कारका पहला आसन है। 
  • इसे करने के लिये अपने पैरों को कंधों के बीच की दूरी के बराबर लाकर खड़े हो जायें। 
  • अब अपने हाथों को नमस्ते करने की मुद्रा में जोड़कर अपनी छाती के करीब लायें और एक गहरी सांस लें, कुछ देर सांस रोके रहें और फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ें। अब आप आसन करने के लिये तैयार हैं।
  • अब फिर से गहरी सांस लें और हाथ जुड़े रखकर धीरे-धीरे ऊपर उठाते हुये जितना हो सके पीछे की ओर ले जायें। 
  • इस मुद्रा में खड़े रहें और आठ तक गिनें और फिर धीरे-धीरे वापस नमस्ते करने की मुद्रा आ जायें। 
  • यह आसन एक साथ 10 बार दुहरायें और दिन भर में कम से कम 5 बार करें।
ध्यान रखेंः 
  • आसन करते समय यदि आपको पीठ में थोड़ा सा भी खिंचाव महसूस तो हाथ उठा कर पीछे की ओर झुकने से परहेज करें पर हाथों को जोड़े हुये बार-बार सिर के ऊपर ले जाना-नीचे लाना जारी रख सकती हैं। 
  • यह आसन आपकी पीठ की मांसपेशिंयों को मजबूती देता है और आपकी पीठ और रीढ़ की हड्डी को पेट में बढ़ते हुये शिशु के वजन के साथ तालमेल करने में मदद करता है।

2. पेट से सांस लेना 

यह एक और आसानी से किया जा सकने वाला आसन है जो आपके प्रसव के समय मददगार होता है। 
  • आपको बस जमीन पर चटाई बिछाकर उस पर पालथी मारकर बैठना है। 
  • अब अपने हाथों को अपने पेट पर रख लें और गहरी सांस लें, थोड़ी देर रूकें और फिर सांस छोड़ें। 
  • 6 तक गिनती करते हुये सांस अंदर लें, सांस रोकें और 4 तक गिनें और फिर सांस छोड़ते हुये 8 तक गिनें। इस समय अपने चेहरे की मांसपेशियों पर जोर न पड़ने दें। 
  • शुरूआत में यह 5 बार करें और धीरे-धीरे इसे 20 बार तक बढ़ायें। यह आसन आपको दिनभर में 5 बार करना चाहिये और यदि कोई परेशानी न हो तो जितनी बार हो सके करें।
ध्यान रखें
  • यह आसन प्रसव होते समय ठीक से सांस खींच कर जोर लगा पाने के लिये आपको तैयार करता है। 

3. शिशुआसन

यह आसन आपकी उन सभी मांसपेशियों को आराम देने में मददगार होता है जो ऊपर लिखे हुये आसानों को करते समय काम करती है।
  • जब छोटा सा शिशु अपने हाथ और घुटने के सहारे चलता है, इस आसन को करने के लिये आपको वैसी ही मुद्रा बनानी है। 
  • अब अपने कूल्हों को पैर की एड़ियों पर रख कर आगे झुकें और अपने हाथों को सामने फैला लें। 
  • शिशु के जैसे ही अपनी ठोढ़ी को अपनी छाती से छुलायें, और सांस लें और छोड़ें। 
  • अब फिर से उसी अवस्था (जब शिशु अपने हाथ और घुटने के सहारे चलता है) में आ जायें। 
  • इसे शुरूआत में पांच बार करें- यह आसन आप दिन भर में 3-5 बार कर सकती हैं।
तो माँ बनने जा रही मेरी प्यारी बहनों, अपनी डाक्टर से बात करने के बाद इन आसनों का अभ्यास शुरू करिये और खुद इसके असर को देखिये-आपको अदंरूनी ताकत और शांति का अहसास होगा। अगर आपको कोई और आसनों की जानकारी है तो अपनी गर्भवती दोस्तों के साथ इसे साझा करें, अपने सुझाव दें और अपनी गर्भावस्था का आनंद लें।

साराशं

जानिये उन आसनों के बारे में जो न केवल आपको गर्भावस्था में चुस्त-दुरूस्त रखेंगे बल्कि आपके शरीर के निचले हिस्से को मजबूत बना कर एक सेहतमंद शिशु को जन्म देने के लिये भी आपको तैयार करेंगे। 

यह लेख हमारे साथ Parentune team ने साझा किया हैं। Parentune भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली पेरेंटिंग कम्युनिटी है जो पेरेंट्स को अपने बच्चों के लिए उपयुक्त सलाह और सहयोग देती हैं। और जाने Parentune के बारे में - http://www.parentune.com/ 
अगर यह जानकारी आपको उपयोगी लगी तो कृपया इसे share करना न भूले !
loading...
Labels:

Post a Comment

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.