सर्दियों के मौसम में गुड़ (Jaggery) खाने का भी अपना ही एक मजा हैं। गुड़ केवल एक खाद्यपदार्थ नहीं तो बल्कि एक बेहतरीन आयुर्वेदिक औषधि भी हैं। भारत में नित्य प्रयोग के अलावा गुड़ का धार्मिक महत्त्व भी हैं। गुड़ का छोटा टुकड़ा किसी कार्य के शुरुआत में खाने से कार्य सफल होता है ऐसे मान्यता आज भी प्रचलित हैं।

नए गुड़ की तुलना में एक वर्ष पुराना गुड़ स्वास्थ्य के दृष्टि से अधिक गुणकारी माना जाता हैं। जहा नए गुड़ से कफ और कृमि पैदा होती है वही पुराना गुड़ त्रिदोषनाशक, श्रमनाशक और बलकारी माना जाता हैं। पुराना गुड़ अदरक के साथ सेवन करने से कफ को, हरड़ के साथ सेवन करने से पित्त को और सौंठ के साथ सेवन करने से समस्त वात विकारों को दूर करता हैं।

विभिन्न रोगों से निजात पाने के लिए गुड़ का कैसा उपयोग करे इसकी जानकारी निचे दी गयी हैं :

health-benefits-jaggery-in-hindi

गुड़ के विभिन्न स्वास्थ्य लाभ और घरेलु नुस्खे
Health Benefits of Jaggery in Hindi
 

कई तरह के रोगों को ठीक करने के लिए हजारों वर्षों से आयुर्वेद और घरेलु नुस्खों में गुड़ का सफल उपयोग होता रहा हैं। ऐसे ही गुड़ के कुछ स्वास्थ्य उपयोगी नुस्खों की जानकारी निचे दी गयी हैं।
  • जुखाम / Cold : 10 ग्राम गुड़ को 40 ग्राम ताजा दही और 3 ग्राम काली मिर्च के चूर्ण के साथ मिलाकर सुबह के समय तीन दिन लेने से जुखाम, नाक-मुंह से दुर्गन्ध आना, गला बैठ जाना खांसी आदि में अच्छा असर दिखता हैं। 
  • रक्त की कमी / Anemia : अगर रक्त की कमी है तो सुबह-शाम गुड़ और मूंगफली के लड्डू बनाकर खाये। गुड़ खाने से शरीर में हिमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ती है और साथ ही रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ती हैं। 
  • शुष्क त्वचा / Dry Skin : नहाने के पानी में गुड़ का टुकड़ा डाले और यह घुल जाने के बाद उस पानी से नहाये। इससे त्वचा कोमल और मुलायम बनेगी।  
  • अस्थमा / Asthma : 10 ग्राम गुड़ लेकर समान भाग सरसों के तेल में मिलाकर 21 दिन तक सेवन करते रहने से लाभ मिल जाता हैं। कफज रोगों में गुड़ और देसी घी को समभाग में मिलाकर उपयोग करे। 
  • वीर्य वुद्धि / Sperm Count : गुड़ को आँवले के चूर्ण के साथ सेवन करने से वीर्यवृद्धि होती हैं। 
  • मोटापा / Obesity : अगर आप मोटापे से परेशान है और अपना वजन कम करना चाहते है तो चीनी (Sugar) का इस्तेमाल कम करे और उसकी जगह पर गुड़ का उपयोग करना शुरू करे। शुरुआत में आपको अटपटा लगेगा पर जल्द ही गुड़ से वही मीठा स्वाद मिलेगा जो आपको चीनी से मिलता था और आपका वजन भी कम होना शुरू हो जायेगा। 
  • प्रसूति / Pregnancy : पुराना गुड़ प्रसूति संबंधी विकारों को दूर करता हैं इसलिए हमारे यहाँ पुराने गुड़ के लाभकारी योग बनाकर प्रसूता को खिलाया जाता हैं। 
  • पाचनशक्ति / Digestion : गुड़ के साथ जीरा मिलाकर खाने से पाचनशक्ति बढ़ती हैं। 
  • नींद की कमी / Insomnia : रात को सोने से पहले 1 कप मलाई में 10 ग्राम गुड़ मिलाकर खाने से रात को गहरी नींद आती हैं। 
  • बवासीर / Piles : गुड़ के साथ हरड़ का चूर्ण मिलाकर सुबह शाम खाने से बवासीर में लाभ होता हैं। 
  • कब्ज / Constipation : खाना खाने के बाद 20 ग्राम गुड़ खाने से कब्ज की शिकायत नहीं होती है और इससे गैस बनने की शिकायत भी कम रहती हैं। 
  • रुसी / Dandruff : गुड़ को पानी में भिगो कर रखे। आप इस पानी से सुबह नहाने से पहले अपने बाल धोये और आधा घंटे तक इसे रखे। इसके बाद साफ़ पानी से अपने बाल साफ करे। हफ्ते में दो बार ऐसा करने से आपके बालों का डेंड्रफ दूर होंगा और बाल भी स्वस्थ रहेगे। 
  • जोड़ो में दर्द / Arthritis : 5 ग्राम गुड़ और 5 ग्राम सौंठ का चूर्ण साथ में मिलाकर सुबह शाम गुनगुने पानी के साथ लेने से लाभ होता हैं। इससे दर्द और सूजन में कमी आती हैं। 
  • याददाश्त / Memory : रोजाना गुड़ खाने से याददाश्त (Memory) अच्छी रहती हैं। बच्चो को स्कूल जाने से पहले एक टुकड़ा गुड़ का अवश्य खिलाये ताकि वे एनरजेटिक रहे और पढ़ा हुआ उन्हें याद रहे। 
गुड़ केवल स्वाद में ही मीठा नहीं है बल्कि इसमें अनेक पोषक तत्व भी होते हैं। ऐसे तो गुड़ का Glycemic Index चीनी से कम है पर अगर आपको मधुमेह / Diabetes हैए तो गुड़ का उपयोग करने से पहले आपको अपने डॉक्टर की राय अवश्य लेनी चाहिए। गुड़ का उपयोग ठण्ड के दिनों में करने से अधिक लाभ होता हैं।
अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook, Whatsapp या Tweeter account पर share करे !
loading...
Labels:

Post a Comment

खास आपके लिए !

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.