कंजंक्टिवाइटिस / Conjunctivitis जिसे हम सामान्य भाषा में आँख आना कहते हैं, यह बारिश के दिनों में होनेवाली आँखों की एक आम संक्रामक बिमारी हैं। बारिश के मौसम में ज्यादातर मामलों में Viral Conjunctivitis देखा जाता हैं और बहत कम मामलों में यह Bacteria के कारण भी हो सकता हैं। आँखों का लाल होना और पानी आना यह Conjunctivitis के आम लक्षण हैं। बैक्टीरिया और वायरस के अलावा Conjunctivitis धुल, मिटटी, केमिकल, धुआ और शैम्पू इत्यादि के एलर्जी के कारण भी हो सकता हैं। पर एलर्जिक कारणों से होनेवाला Conjunctivitis संक्रामक नहीं होता हैं।

बारिश के मौसम में जब ज्यादा धुप भी नहीं होती हैं अगर कोई व्यक्ति काला चश्मा पहनता हैं तो लोगो का पहला अनुमान यही होता हैं की शायद उस व्यक्ति की आँख आ गयी हैं। आँख आना / Conjunctivitis के लक्षण, सावधानी और उपचार संबंधी अधिक जानकारी निचे दी गयी हैं :

Conjunctivitis causes treatment in Hindi
Conjunctivitis के लक्षण 

Conjunctivitis में निचे दिए हुए लक्षण दिखाई देते हैं :
  1. आँखे लाल होना 
  2. आँखों में खुजली होना 
  3. आँखों से धुधला दिखाई देना 
  4. आँखों से पानी आना 
  5. आँखों में दर्द होना 
  6. आँखों से हरा या सफ़ेद चिपचिपा द्रव निकलने से पलके चिपकना 
  7. धुप या तेज रोशनी के प्रति असंवेदनशीलता जिसे Photophobia भी कहा जाता हैं
शुरुआत में यह लक्षण एक आँख में नजर आते हैं और एहतियात या ईलाज न करने पर दुसरे आँख में भी फ़ैल सकता हैं। Conjunctivitis के गंभीर अवस्था में कुछ रोगियों के आँख से खून भी निकल सकता हैं। 

Conjunctivitis में क्या सावधानी बरते ?

Conjunctivitis में निचे दी हुई सावधानी बरतनी चाहिए :
  • Conjunctivitis के लक्षण नजर आने पर तुरंत नेत्र रोग विशेषज्ञ के पास जाकर जांच कराना चाहिए और दवा / ड्रॉप लेना चाहिए। 
  • दिन मे कम से कम 4 से 5 बार स्वच्छ पानी से आँखे साफ़ करे। 
  • घर से बाहर धुप में निकलने पर Sunglasses या काले चश्मे पहने। 
  • पीड़ित व्यक्ति को आँखों को छूने के बाद हर वक्त अपने हात अवश्य धोने चाहिए। 
  • आँखे साफ़ करने के लिए अपना अलग कपडा या disposable tissue का इस्तेमाल करे। 
  • दर्द कम करने के लिए हलके गर्म पानी बोतल में भरकर या हलके गर्म कपडे से आँखों को सेक सकते हैं। 
  • अपना चश्मा या दवा किसी और के साथ share न करे।  
  • Conjunctivitis होने पर बच्चो को स्कूल या अन्य बच्चों के साथ खेलने न भेजे। बड़े लोगो ने भी घर पर रहकर अन्य लोगो को Conjunctivitis का संक्रमण होने से बचाना चाहिए। 
  • अन्य लोगो को Conjunctivitis के संक्रमण से बचाने के लिए अपने इस्तेमाल किये हुए रुमाल, कपडा, तकिया इत्यादि वस्तु का इस्तेमाल न करने दे। अन्य लोगो से हात न मिलाए। 
  • रोगी के आँख में दवा डालते समय ख्याल रखे की ड्रोपर का अगला हिस्सा रोगी के आँख या हाथ से संपर्क न करे। दवा डालने के बाद अपना हाथ अच्छे से धो लेना चाहिए। 
  • Conjunctivitis ठीक होने के बाद इस्तेमाल किया हुआ ड्रॉप फेक देना चाहिए। 
ऐसे तो Conjunctivitis यह एक सामान्य संक्रामक रोग जो आसानी से ठीक हो जाता हैं पर अगर सही ईलाज और एहतियात नहीं बरते जाए तो पीड़ित अपनी आँखों की रोशनी भी खो सकता हैं। Conjunctivitis के सभी पीड़ित व्यक्तिओ ने डॉक्टर के सलाहनुसार दवा और ड्रॉप लेना चाहिए और अपना संक्रमण किसी और व्यक्ति को नहीं हो इसका ख्याल रखना चाहिए।

आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है !
अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है और आप समझते है की यह लेख पढ़कर किसी के स्वास्थ्य को फायदा मिल सकता हैं तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plusFacebook  या Tweeter account पर share जरुर करे !
Keywords : Conjunctivitis causes, symptoms and precaution in Hindi, आँख आना (Conjunctivitis) के कारण, लक्षण और सावधानी  
loading...

Post a Comment

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.