Ebola किस बीमारी का नाम है ?

Ebola एक बेहद भयावह बीमारी है जो की Ebola नामक Virus से होती है। हाल ही में Ebola पश्चिम अफ़्रीकी देशो में और लाइबेरिया में फैला हुआ है। Ebola की वजह से कई रोगियों की जान जा चुकी है। Ebola रोग की पहचान लगभग 40 साल पहले सूडान के ईबोला नदी के पास स्थित एक गाव में हुई थी। इसी कारण इसका नाम Ebola पड़ा।

Ebola virus का आकर Microscope से देखने पर एक मुड़े हुए धागे जैसा दीखता है। Ebola virus की 5 प्रकार की किस्मे है जिनमे से 4 किस्मे इंसानो के लिए खतरनाक होती है। अभी तक Ebola से बचने के लिए कोई दवा या टिका / Vaccine का निर्माण नहीं हुआ है। Ebola को Hemorrhagic Fever भी कहते है क्योकि Ebola का संक्रमण होने पर शरीर में कही से भी रक्तस्त्राव / Bleeding हो सकती है। Ebola का संक्रमण होने पर लगभग 90 % रोगीओं की मृत्यु हो जाती है।

Ebola कैसे फैलता है ?

Ebola का संक्रमण कई तरह से हो सकता है। इसकी संक्षिप्त जानकारी निचे दी गयी है :
  1. Ebola virus से संक्रमित जानवर जैसे की बंदर, चमदागड या सूअर इत्यादि जानवरो के या संक्रमित रोगी के पसीने, लार, संक्रमित खून या मल के सीधे संपर्क में आने से यह फैलता है। 
  2. संक्रमित व्यक्ति से यौन संबंध। 
  3. संकमित व्यक्ति के शव से संपर्क। 
  4. संक्रमित सुई / Needle से।  
  5. संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने वाली चीजे जैसे कपडे, बर्तन, टॉवेल इत्यादि। 
  6. जो रोगी Ebola के संक्रमण होने के बाद ठीक होने में सफल हो जाते है, ऐसे रोगी के वीर्य / Semen अगले 7 हफ्ते तक Ebola के संक्रमण को फैला सकते है।  
अच्छी बात यह है की, Ebola Virus का संक्रमण सांस के जरिए (Airbone) नहीं फैलता है, इसका संक्रमण रोगी से सीधे संपर्क में आने पर ही होता है।

Ebola-Information-In-Hindi


Ebola के लक्षण क्या है ?

Ebola Virus का संक्रमण होने के बाद 2 से 21 दिनों में (Incubation Period) शरीर में फैलने शुरू हो जाता है।Ebola के लक्षण निचे दिए गए है :
  1. प्रथम 7 से 9 दिन (शुरूआती दौर)
  • बुखार 
  • सरदर्द 
  • कमजोरी 
  • दस्त 
  • आँखे लाल होना 
  • गले में कफ जमा होना 
  • स्नायु में कमजोरी या जकड़ाहट 

     2. 10 वे दिन 

  • तेज बुखार 
  • खून की उलटी 
  • निष्क्रिय व्यवहार 

     3. 11 वे दिन 

  • त्वचा पर चोट या त्वचा के निचे खून जमा होना 
  • आँख, नाम, मुंह या गुद मार्ग से रक्तस्त्राव होना 
  • मस्तिष्क को क्षति 

      4. 12 वे दिन (अंतिम चरण)

  • बेहोश होना 
  • दौरा पड़ना 
  • शरीर के अंदर ज्यादा मात्रा में रक्तस्त्राव 
  • अंत में मृत्यु  
Source : U.S. Center of Disease and Control, BBC 

Ebola के निदान / Diagnosis हेतु क्या परिक्षण किए जाते है ?


Ebola के निदान हेतु निम्नलिखित परिक्षण / Laboratory Tests किए जाते है :
  1. Antibody-Capture Enzyme-Linked Immunosorbent Assay (ELISA)
  2. Antigen detection test
  3. Serum neutrilization test  
  4. Reverse Transcriptase Polymerase Chain Reaction (RT-PCR) Assay
  5. Electron Microscopy
  6. Virus Isolation

Ebola से बचने के लिए क्या करना चाहिए ?

Ebola रोग अभी तक भारत में पहुंचा नहीं है। भारत सरकार द्वारा हर संभव कोशिश की जा रही है की इस रोग को भारत में पहुचने से रोका जाए। Ebola के उपचार के लिए कोई ठोस दवा या टिका / Vaccine का निर्माण अभी तक हुआ नहीं है। 2015 तक इसका टिका / Vaccine निर्माण होने की आशंका है। 

Ebola vaccine तयार होने के पहले अगर Ebola रोग भारत में या हमारे पाठक जिस देश में हो वहा फ़ैल जाए तो हमें क्या सावधानी बरतनी चाहिए इस संबंधी अधिक जानकारी निचे दी गयी है :
  1. Ebola के लक्षण दिखाई देने पर तुरंत डॉकटर से जाँच करा ले। 
  2. अच्छे साबुन या Hand sanitizer से हाथ धोए। 
  3. खाना अच्छे से पकाए। 
  4. मांसाहार लेने से बचे। 
  5. संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में जाने से बचे।
  6. जिस जगह पर Ebola के रोगी ज्यादा मात्रा में पाए जाते है ऐसी जगह जाने से बचे। 
  7. लोगो से अनावश्यक हाथ मिलाना या संपर्क करना टाले। 
  8. अपने घर और आसपास सफाई रखे। 
  9. मच्छरों को न पनपने दें। 
  10. जानवर द्वारा कटा हुआ आलूबुखारा / Plum न खाए। 
  11. किसी भी अनजान / अपरिचित व्यक्ति या जानवर से बचिए। 
  12. मृत व्यक्ति या जानवर के पास जाने की कोशिश न करे। 
  13. Ebola से मरने वाले व्यक्ति या जानवर के कपडे, चददर या उपयोग में ली जानेवाली चीजो को न छुए।  
  14. भीड़भाड़ वाली जगह पर जाने से बचे। 
  15. औपचारिकता दिखाने के लिए अस्पताल न जाए।  
  16. अपने आसपास के लोगो को Ebola संबंधी जानकारी दे और सफाई बनाए रखने के लिए प्रेरित करे। 
कई देशो में Ebola महामारी की तरह फैलता जा रहा है। थोडी सी सावधानी और एहतियात रख कर Ebola से बचा जा सकता है। याद रहे :

रोकथाम ईलाज से बेहतर है ! Prevention is better than cure !!

Source : Source : U.S. Center of Disease and Control, BBC, UNICEF, WHO

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook या Tweeter account पर share करे !

आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है !
loading...

Post a Comment

  1. Thanks for sharing this information. Let's try to spread the word as far as we can..

    ReplyDelete
  2. वाकई काबिले तारिफ आर्टिकल प्रितोश जी। आप बहुत ही अच्छा काम कर रहे हैँ। आपको शुभकामनायेँ।

    ReplyDelete
  3. उपयोगी लेख है

    ReplyDelete

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.