अस्थमा होने के मुख्य कारण क्या है ?

हमारे घर के अन्दर और बाहर ऐसी अनेक चीजे होती है जिस कारण अस्थमा की शुरुआत हो सकती है। यह कारण नीचे दिए गए है :-

१) हवा प्रदुषण (Air Pollution) 

हवा में प्रदुषण यह अस्थमा का एक प्रमुख कारण है। प्रदूषित हवा श्वसन नलिका में 
जाकर अस्थमा अस्थमा की शुरुआत होती है।  
  • गाडियों से निकलता धुआ 
  • धुम्रपान करना या धुम्रपान कर रहे व्यक्ति के पास खड़ा रहना। याद रहे धुम्रपान कोई भी करे सिगरेट / बीडी से निकल रहे धुए का बुरा असर सब पर होता है। 
  • परफ्यूम,डीयोद्रेंट,स्प्रे,साबुन,जेल इत्यादी की उग्र गंद से। आपको जिस गंद की एलर्जी हो उस गंद से तकलीफ हो सकती है,जरुरी नहीं है की सभी अस्थमा के मरीज में एक जैसी गंद्से एलर्जी हो। 
  • फूलो के पराग कण (Pollen) से अस्थमा हो सकता है। 
  • दिवार पर लगाये गए तेलयुक्त रंग (Oil Paint) से। 
२) वातावरण में होनेवाले बदलाव के कारण   

वातावरण में होनेवाले अचानक बदलाव के कारण अस्थमा का हमला हो सकता है 
या अस्थमा बढ़ सकता है। अचानक बादल आना,बारिश होना,मौसम ठंडा या Air Conditioner की ठंडी हवा में साँस लेने के कारण अस्थमा हो सकता है। 


Causes-of-Asthma-In-Hindi
३) मानसिक उत्तेजना 

जोर से हसने से , अत्यधिक रोने से और चिल्लाने के समय अधिक तेज साँस लेने के कारण भी
अस्थमा  का हमला हो सकता है।

आवेश में आ जाने के कारण भी अस्थमा के मरीजो में मानसिक उत्तेजना के कारण अस्थमा
का हमला हो सकता है। 


४) गहरी साँस लेने से 

अत्याधिक कसरत / व्यायाम करने से या खेलने के समय गहरी साँस लेने के कारन अस्थमा का
हमला हो सकता है। अस्थमा के रोगी बच्चो को खेलने से आधा घंटे पहले अस्थमा की दवाई लेनी चाहिए।



५) घर  केअन्दर के प्रदुषण से 

घर के अन्दर की ऐसी चीजे जिस कारन अस्थमा हो सकता है  :-
  •  घर के पालतू जानवर के बाल 
  •  घर की दिवार गीली रहने पर उस पर उगने वाले फंगस 
  •  तिलचिट्टा (Cockroach) की खाल , छोटे कीटाणु (House Dust Mite)
  •  खाना का कोई ऐसा पदार्थ जिससे एलर्जी हो जैसे की दूध,मछली,टमाटर,अंडा ईत्यादी 
  •  मिलावटी खाना 
  •  कपडे धोने का साबुन , डीटरजेंट इत्यादी की एलर्जी  
  •  धुल ,कचरा ,मिटटी 
६) बीमारी 

नाक ,कान और गले में होनेवाली बीमारी का शुरूआती दौर में सही इलाज ना करने पर
उसका संक्रमण श्वसन नलिका में फैलने से अस्थमा बढ़ सकता है।

GERD (Gastro-esophageal  reflux disorder)  में खट्टी डकार आनेसे या आधा पचा हुआ
खाना अन्ननलिका से श्वसन नलिका में जा सकता है और इस कारण अस्थमा हो सकता है। 

७) हारमोंस में बदलाव 

मासिक धर्म या गर्भावस्था के दौरान स्त्रिओ में हारमोंस के बदलाव के कारण अस्थमा हो सकता है।

८)  दवाईया

कुछ दवाईयो  के करण  भी अस्थमा बढ़ सकता है।  जैसे की :-
  • एस्पिरिन ,आइबूप्रोफेन ईत्यादी दर्दनाशक दवाई  (NSAID)
  • ब्लड प्रेशर कम करने में उपयोग में आनेवाली अटेनोलोल , मेटोप्रोलोल ईत्यादी बीटा ब्लॉकर दवाईया 
  • रामीप्रिल , एनालाप्रिल ईत्यादी ए .सी .ई इनहीबिटर दवाईया  
अस्थमा संबंधी संपूर्ण जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे - अस्थमा  

अगर आपको यह लेख उपयोगी लगता है तो कृपया इस लेख को निचे दिए गए बटन दबाकर अपने Google plus, Facebook या Tweeter account पर share करे !

आपसे अनुरोध है कि आप आपने सुझाव, प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य संबंधित प्रश्न निचे Comment Box में या Contact Us में लिख सकते है !
loading...

Post a Comment

  1. sir , khuch dino se mujhe uljhn si ho rahi hai....mujhe lambi lambi sawsh lena padta hai.....sir ye koyi bimari to nhi....??
    plz sir tell me...??

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dear Prashant Shukla
      Thanks for visiting and commenting on Nirogikaya.
      Aap ne jo symptoms kahe hai vo Asthma, Acidity aur Hruday rog me bhi dekhe jaate hai. Behtar honga aap kisi acche physician se ek bar check up karva le.
      Mujhe aapke medical history ke bare me pata na hone ke karan koi comment karna galat honga.
      Dhanyavad.

      Delete
  2. Sir mujhe "Naak ke najle" ki bimari h. Dhul-mitti se mujhe chiikke suru ho jaati h. Or iski wajah se kai baar saans me dikkat ho jaatih. Isse bhi Asthma ho sakta h kya? Kripya mujhe jaankaari de or ye bhi bataye ki kya mera 'najla' thik ho sakta h?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dear Yash

      अगर आपको धूल मिटटी के कारण छीके आती है और बाद में खांसी के साथ सांस लेने में दिक्कत होती है तो आपको Allergic Bronchitis हो सकता है। आपको जिस चीज से एलर्जी है उनसे दूर रहे। तकलीफ होने पर डॉकटर से जांच करा कर दवा ले। एलर्जी का कोई permanent solution तो नहीं होता है पर आप अपनी रोग प्रतिकार शक्ति बढ़ा कर इसकी तीव्रता कम कर सकते है।
      पढ़े :अपनी रोग प्रतिकार शक्ति कैसे बढ़ाए ?
      http://www.nirogikaya.com/2013/12/how-to-boost-our-immune-system-in-hindi.html
      ब्लॉग पर आने के लिए धन्यवाद ! अगर आपको हमारा ब्लॉग पसंद आया है तो कृपया अपने मित्रो को इस ब्लॉग की जानकारी दे जिससे वह भी स्वास्थ्य विषयक जानकारी हिंदी में प्राप्त कर लाभान्वित हो सके।

      Delete
  3. Sir me jab baat karta hu tab meri sans tez ho jati hai or mere gale me hamesa ke liye cough rehta hai or muje baat karne bhi uncomfortable feel hota hai. Kya ye ek bimari hai??

    ReplyDelete
    Replies
    1. फिरोज जी, बिना आपकी जांच किये कोई सलाह देना गलत होंगा . कई कारणों से सांस तेज हो सकती है जैसे अस्थमा, ह्रदय रोग, ज्यादा Acidity इत्यादि. आप एक बार अपने डॉक्टर से जांच करा लीजिए.
      इस ब्लॉग पर भेट देने हेतु धन्यवाद.

      Delete
  4. Hello Sir! meeny yeh information padhi or mujhe bhaut aachi lagi.. but sir mere bhai ko yeh problem hai or wo iss barey m discuss kerna bhi pasand ni kertey or zayada tablets bhi ni khatey bass yeh khetey hai ho jaunga khud teek..... but i think its not good for him.. so plz tell sir ki unhey kiss chiz a prej kerna chaiye..? or kya kya kerna chaiye jab yeh problem ho ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. Prnice, Aap hamare asthma se jude anya article padhe. Unme sari jaankari di hain.

      Delete
  5. सर जी मेरी बीवी को भी धूल मिट्टी और धुएँ के कारण उसे खाँसी चालू होती हैं, सांस रुकती हैं और वह अब इन्हेलर भी इस्तेमाल
    करती हैं लेकिन इसकी मात्रा इन दिनो बहुत बढ़ गयी हैं और अभी क्या उपाय करना चाहिए तथा अस्थमा स्पेशलिस्ट मुम्बई अथवा पुणे में कोई हैं तो plz बताइए

    ReplyDelete
    Replies
    1. Unhe allergic asthma ho sakta hain. Iska koi permanent solution nahi hota hain. Best yahi rahega ki dhul mitti se bach kar rahe aur fefdo ki kshamta ko badhaane ke liye pranayam kare.

      Delete

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.